V Wash in Hindi | वी वाश क्या होता है? | V Wash How to Use in Hindi

What is V-Wash and how to use in hindi — वी वॉश क्या होता है, वी वॉश का उपयोग कैसे करना चाहिए, वी वॉश का इस्तेमाल क्यों जरूरी  है। इस सब के बारे में हम इस लेख में बात करेंगे। वी वॉश महिलाओं से सम्बन्धित है अत: यह महिलाओं के लिए कैसे फायदेमंद होता है और कैसे काम करना है इसके बारे में बात करेंगे।

महिलाओं के जननांग को योनी और वजाइना भी कहते हैं। यह अंग लचीली मसल्स से बना होता है। जो शरीर में सेंसेशन और लुब्रिकेशन का कार्य करता है। योनी बाहरी शरीर से गर्भाश्य को जोड़ता है। योनी का साफ और स्वस्थ्य रहना उतना ही जरूरी है जितना शरीर के अन्य अंगों का। जननांग का pH लेवल सही होना अति आवश्यक होता है। इसके बारे में लेख में आगे बात करेंगे।

तो आइये आगे के लेख में V Wash के बारे में जानते हैं —

वी वॉश क्या होता है – What is V Wash in Hindi

योनी महिलाओं के शरीर का बहुत ही मह्त्वपूर्ण हिस्सा है अत: इसकी सफाई का विशेष ध्यान देना जरूरी है। क्योंकि अगर इसमें कोई भी संक्रमण हो जाता है तो यह योनी के रास्ते गर्भाशय तक पहुंच सकता है जिससे यह इनफर्टिलिटी अर्थात बांझपन का कारण बन सकता है। संक्रमण के कारण आपको खुजली, जलन, सफ़ेद पानी (वाइट डिस्चार्ज) का निकलना जैसी समस्यायें हो सकती हैं। अत: इसके लिए आपको  V-Wash का प्रयोग करना चाहिए।

V-Wash वजाइना योनी को साफ करने का एक हाइजीन वॉश प्रोडक्ट है। इसे तैयार करने में लेक्टिक एसिड, टी-ट्री ऑयल के अलावा विभिन्न प्राकृतिक तत्वों का भी प्रयोग किया जाता है।

यह योनी के pH लेवल को बैलेंस रखने में मदद करता है। इसके अलावा यह योनी में होने वाले संक्रमण, खुजली, रूखेपन एवं जलन से भी बचाता है। जिससे आपको पूरे दिन बेहतर महसूस करने में सहायता करता है।

वजाइना पीएच लेवल क्या है इसके असंतुलन के कारण क्या है –

योनि में एक प्राकृतिक सुरक्षात्मक लेयर पाई जाती है जो कि एसिडिक होती है। इसके ​कारण संक्रमण को रोकने में मदद मिलती है। यह लेयर हमेशा बनी रहती है तक तक जब तक जननांगों अर्थात योनि का pH लेवल सही होने पर वे लेक्टिक एसिड (Lactic acid) या दूध एसिड का उत्पादन करते रहे।

जो एसिडिक वातावरण को 3.5 पीएच से 4.5 के पीएच (ph) लेवल पर बनाए रखने में मदद करता है। यह लैक्टोबैसिली के विकास को बढ़ावा देता है और अच्छे बैक्टीरिया के विकास में मदद करता और इसके साथ ही यह हानिकारक बैक्टीरिया की उपस्थिति और संक्रमण को रोकता है।

अगर किसी भी वजह से इस पीएच में कोई परिवर्तन आता है तो यह संक्रमण का कारण बनता है। अत: आपको इसके लिए v wash का उपयोग करना चाहिए।

pH (पीएच) असंतुलन के कई कारण हो सकते हैं उनमें से कुछ नीचे दिये गये हैं।

  • अपर्याप्त अंतरंग स्वच्छता
  • सिंथेटिक अंडरगारमेंट का प्रयोग करना।
  • तंग कपड़े पहनना।
  • सुगंधित एवं कलर टॉयलेट पेपर या फिर सुगंधित साबुन का प्रयोग करना।

वी वॉश बनाने में क्या—क्या उपयोग होता है –

V-Wash  को बनाने में कई प्रकार के तत्वों का प्रयोग किया जाता है उसमें से कुछ नीचे दिये गये हैं —

  • शुद्ध पानी
  • लैक्टिक एसिड
  • फेनोक्सीथेनॉल और बेन्जोइक एसिड
  • डिहाइड्रोकैसेटिक एसिड
  • सोर्बिटोल
  • ट्राईथेनॉलमाइन लॉरिल सल्फेट
  • कोकेमिडप्रोपाइल बीटेन
  • पॉलीएक्वामियम
  • ग्लाइसेरिल कोकेट
  • हाइड्रॉक्सिप्रोपाइल सेल्यूलोज
  • खुशबू (fragrance)
  • सोडियम हाइड्रॉक्साइड
  • चाय के पेड़ का तेल (tea tree oil)
  • हिप्पोफाइ रहमनोइड्स (समुद्री हिरन का सींग)
  • फलों का तेल (fruit oil)

वी वॉश का प्रयोग क्यों करें – Why to use V-Wash?

योनी (वजाइना) में संक्रमण के कारण सिर्फ महिलाओं को ही खतरा नहीं होता उनके सेक्सुअल पार्टनर को भी खतरा हो सकता है। आज के युग में भी बहुत सी महिलाओं को वजाइना की स्वच्छता के महत्व का ज्ञान नहीं होता। आमतौर पर महिलाएं योनी को पानी और सामान्य साबुन से ही साफ कर लेती हैं लेकिन इस साधारण साबुन का pH लेवल 8 से अधिक होता है।

इसका कारण है साबुन में पाया जाने वाला एल्केलाइन। साधारण पानी का pH लेवल भी 7 के करीब होता है। इतने अधिक pH लेवल से योनी के स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव पड़ सकता है। इससे उसमें पाये जाने वाले अच्छे बैक्टिरिया खत्म हो सकते हैं। जो वजाइना (योनी/जननांग) की सुरक्षा के लिए जरुरी होते हैं।

इसी कारण से वी—वॉश का प्रयोग करना चाहिए। क्योंकि V-Wash का pH लेवल 3.5 से लेकर 4.5 तक होता है। अत: इसकी कारण से योनी (वजाइना) को साफ करने के लिए V-Wash जरुरी होता है।

वी वॉश का प्रयोग कैसे करें – How to Use V Wash?

अब हम जानते हैं वी वॉश का प्रयोग कैसे करते हैं। इसके लिए थोड़ा सा V-Wash को लेकर वजाइना (योनी) पर लगाएं और फिर साधारण पानी से साफ कर लें। पर ध्यान रहे वी—वॉश योनी के अन्दर न जाए।

ऐसा होने से संक्रमण हो सकता है। वी वॉश का के प्रयोग से सामान्यत: कोई हानि नहीं होती है लेकिन फिर भी वजाइना को साफ करते समय सावधानी रखनी चाहिए यह आपकी सुरक्षा के लिए ही है। बाजार में V-Wash लिक्विड के अलावा V-Wash वाइप्स भी आसनी से मिल जाते हैं। इसका प्रयोग आप योनी को धोने के बाद पोछने के लिए कर सकते हैं।

वी—वॉश के प्रयोग के लिए आप निम्न उपाय कर सकते हैं —

  • V Wash को आप दिन में किसी भी समय लगा सकते हैं।
  • V Wash की कुछ बूंदे अपनी हथेली पर लेकर उसे योनि के बाहरी हिस्से में धीरे—धीरे लगाकर मालिश करके लगा सकती हैं। 
  • योनी में वी वॉश लगाने के बाद उसे पानी से अच्छी तरह साफ करना चाहिए।
  • इसे महिलायें अपने पीरियड्स के समय में भी प्रयोग कर सकती हैं। इसके प्रयोग से कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है।

वी वॉश कितने में मिलती है – v wash price –

आमतौर पर बाजार में अलग—अलग कम्पनी के वी वॉश अलग-अलग कीमत में मिलते हैं इनमें से कुछ के दाम नीचे दिये गये हैं —

  • V Wash Plus Expert Hygiene Intimate Wipes – 84/-  से 254/— बीच
  • V Wash Liquid Wash 100 ml – 100 ML -152/- से 180/— के बीच

में मिलती है। इसके अलावा भी अन्य कम्पनीायों के वी वॉश की कीमत बाजार में अलग—अलग हो सकती है। इसके आप ​सीधे किसी दुकान या फिर ऑनलाइन flipkart, Amazon से भी खरीद सकते हैं।

वी वाश के नुकसान — What are the disadvantages of V-Wash –

  • वी वाश का प्रयोग योनी के बाहर की त्वचा को साफ करने के लिए होता है अत: इसके बाहरी उपयोग के लिए ही प्रयोग करें उसके पश्चात अच्छी तरह से साफ कर लें। नहीं तो आपकेा संक्रमण का खतरा हो सकता है।
  • वैसे तो वी वाश के प्रयोग से अभी तक कोई भी साइड इफ़ेक्ट अभी तक पता नहीं चले हैं।
  • किसी को भी किसी केमिकल या प्रोडक्ट से एलर्जी हो सकती है। अगर आपको भी एल​र्जी की समस्या है तो आपको इसेक प्रयोग से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य कर लेनी चाहिए।

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap