तुकमलंगा के फायदे और नुकसान | Tukmalanga Ke Fayde Aur Nuksan

Tukmalanga — तुकमलंगा बहुत ही गुणकारी औषधि है और यह भारत में आसानी से मिल जाती है। यदि आप तुकमलंगा को कोई आम पौधा समझ रहे हैं तो यह आपकी भूल हो सकती है इसको आयुर्वेद चिकित्सा में   जड़ी-बूटी की तरह प्रयोग किया जाता है।

तुकमलंगा (Tukmalanga) में बहुत चिकित्सक गुण पाये जाते हैं जो आपके लिए फायदेमंद हो सकते हैं। यह बवासीर, दस्त, आंखों के रोग, डायबिटीज, त्वचा के रोग के साथ ही पेट की समस्या जैसे दस्त में भी लाभकारी होता है। तुकमलंगा के बहुत से फायदों के साथ ही यह आपके लिए नुकसानदेह भी हो सकती है। यदि आप इसका प्रयोग सही प्रकार से नहीं कर रहे हैं या फिर अधिक मात्रा में तुकमलंगा का प्रयोग करते हैं यह आपको नुकसान पहुंचा सकती है।

हम इस आर्टिकल में आपको तुकमलंगा (Tukmalanga) के बारे में  पूरी जानकारी देने जा रहे हैं जो आपके​ लिए फायदेमंद होगी। तो आइये शुरू करते हैं इस लेख को — तूतमलंगा के नुकसान,  Tootmalanga side effects, तूतमलंगा (Tootmalanga), Tootmalanga benefits and uses, Tukmalanga ke fayde aur nuksan

तुकमलंगा क्या है? — What is Tukmalanga in Hindi?

तूकमलंगा बहुत छोटे आकार का पौधा होता है जिसके पत्ते छोटे लगभग 2 से 2.5 सेमी0 के होते हैं। इसकी टहनियां कठोर होती हैं जो इसके आधार से निकलती होती हैं। इसमें आने वाले फुल छोटे आकार के होते हैं जो लगभग 2 सेमी0 के होते हैं। फुलों से ही इसके बीजों का निर्माण होता है जिसकी लम्बाई मात्र 2 मिमी होती है जिनका रंग हल्का काला अर्थात श्यामला होता है। यह बीज आकार में अण्डाकार और नुकीले एवं चिकना होता है। इसका पौधा सदाबहार होता है और इसमें फूल और बीज साल भर लगते हैं।

तूकमलंगा के इन्हीं बीजों का सेवन किया जाता है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी होते हैं। इसकी तासीर ठण्डी होती है इस कारण इसको शरबर एवं फालूदा में प्रयोग किया जाता है। यह भारत में प्रमुख रूप से गुजरात, पंजाब, राजस्थान एवं महाराष्ट्र में मिलता है वहीं विश्व में इसकी पैदावार अफ्रिका, पाकिस्तान, अफगानिस्तान एवं पश्चिम एशिया के देशों में होती है।

तुकमलंगा के अन्य नाम — Other names for Tukmalanga

तुकमलंगा (Tukmalanga) एक Lamiaceae (लैमिएसी) कुल का पौधा है और ​इसका वैज्ञानिक नाम Salvia aegyptiaca Linn. (सैल्विया इजिप्टियाका) है। इसको अलग—अलग जगह अलग—अलग नामों से जाना जाता है जो निम्न हैं —

  • Hindi- तुकमलंगा, तूतमलंगा (Tootmalanga),
  • English- Egyptian sage (इजिप्शियन सेज) 
  • Punjabi- तूखम-मलंगा (Tukhm-malanga)
  • Urdu- तुखमे बलांगो

तुकमलंगा के पोषक तत्व — Nutrients of Tukmalanga

तुकमलंगा में बहुत से पोषक तत्व पाये जाते हैं जो हमारे लिए बहुत ही लाभकारी होंगे उनमें से कुछ मुख्य पोषक तत्व निम्न हैं —

  • प्रोटीन
  • कार्बोहाइड्रेट
  • कैल्शियम
  • फाइबर
  • आयरन
  • मैग्नीशियम
  • ओेमेगा—3 फैटी एसिड
  • विटामिन — ए
  • विटामिन — के

तुकमलंगा के फायदे — Tukmalanga Benefits in Hindi

1. पाचन में तुकमलंगा के फायदे —

पाचन को बेहतर के लिए के लिए तुकमलंगा बहुत ही लाभकारी हो सकता है क्योंकि इसमें पाया जाने वाला फाइबर आपके पाचन तंत्र के लिए लाभकारी होता है जो भोजन को सही प्रकार से पचान में मदद करता है। इसके साथ ही उच्च फाइबर होने से कब्ज, गैस, अपच के साथ ही पेट से जुड़ी कई और समस्यायें समाप्त हो जाती है।

2. खून की कमी में तुकमलंगा के फायदे —

यदि आपके शरीर में खून की कमी है या आपको एनिमिया होने का खतरा है तो आपके लिए तुकमलंगा (Tukmalanga) फायदेमंद हो सकता है। शरीर में खून की कमी होने का मुख्य कारण शरीर में आयरन की कमी का होना और वहीं Tukmalanga में आयरन की प्रचूर मात्रा पाई जाती है जिससे शरीर में होने वाली आयरन की कमी दूर हो जाती है। इस कारण शरीर में खून की कमी दूर हो जाती है और एनीमिया का खतरा कम हो जाता है।

3. हड्डियों के लिए तुकमलंगा के फायदे —

यदि आप अपनी हड्डियों को मजबूत बनाना चाहते हो तो आपको तुकमलंगा (Tukmalanga) का सेवन अवश्य ही करना चाहिए क्योंकि इसमें कैल्शियम प्रचूर मात्रा में पाया जाता है जो हमारी हड्डियों के लिए एक जरूरी तत्व है। इससे बढ़ती उम्र में हड्डियों के जल्द टूटने के खतरे से बचा जा सकता है।

4. त्वचा के लिए तुकमलंगा के फायदे —

इसमें पाये जाने वाले गुण त्वचा के रोगों को सही करने में मदद करते हैं। यह आपकी त्वचा को खुबशुरत भी बनाये रखते हैं। इसके लिए आपको तुकमलंगा की पत्तियों का प्रयोग करना होता है। आपको इसकी पत्तियों के लेप को अपनी त्वचा पर लगा चाहिए इससे आपकी त्वचा के विकार दूर हो सकते हैं।

5. मोटापा घटाने में तुकमलंगा के फायदे —

यदि आप अपना वजन कम करना चाह रहे हैं तो आपको तुकमलंगा का सेवन अवश्य करना चाहिए यह आपका वजन कम करने में मदद कर सकता है। इसमें पाया जाना वाला फाइबर आपको जल्द भूख नहीं लगने देता है जिससे आप अपनी भूख को नियंत्रित कर पाते हैं और आप अतिरिक्त भोजन नहीं करते हैं जिससे आपको वजन कम करने में सहायता मिलती है। आपको इसके साथ नियमित व्यायाम भी करना चाहिए तभी आपको लाभ होगा।

6.  मानसिक स्वास्थ्य के लिए तुकमलंगा के फायदे —

तुकमलंगा (Tukmalanga) में पाये जाने औषधिय गुण मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर करने में मदद करते हैं। इसमें पाये जाने वाले पोषक तत्व दिमांग को शांत करने के साथ ही चिंता, तनाव, माइग्रेन, दिमागी थकान में फायदेमंद होते हैं। इसमें पाया जाने वाली ठण्डी तासिर थकान को दूर कर आपके मूड को भी अच्छा करती है।

7. बवासीर में तुकमलंगा के लाभ —

यदि आपको बवासीर का रोग है तो आपके लिए तूतमलंगा के औषधीय गुण फायदेमंद हो सकते हैं। तूतमलंगा के बीजों में पाये जाने वाला उच्च फाइबर आपके बवासीर के उपचार में फायदेमंद होता है।

और पढ़ें बवासीर का घरेलू उपचार

8. डायबिटीज में तुकमलंगा के फायेद —

डायबिटीज की बीमारी बच्चों से लेकर बूढ़ों तक होने लगी है। इससे बचने के आपको तुकमलंगा का प्रयोग करना चाहिए यह आपके लिए फायदेमंद हो सकती है। इसके लिए आप 1-2 ग्राम तुकमलंगा के बीज का चूर्ण तैयार कर लें और एक चम्मच चूण को दूध या दही के साथ प्रतिदिन सेवन करें इससे आपकी डायबिटीज में लाभ होगा।

तुकमलंगा के उपयोगी भाग — Beneficial Part of Tukmalanga

तुकमलंगा (Tukmalanga) के निम्न भागों का प्रयोग किया जाता है —

  • बीज
  • पत्ती

तुकमलंगा का उपयोग कैसे करें? — How to Use Tukmalanga (Tootmalanga)

तुकमलंगा (Tukmalanga) के बीजों का प्रयोग किया जाता है जिसको आप चूर्ण या साबुत रूप में भी प्रयोग कर सकते हैं। 

  • तुकमलंगा के बीजों का उपयोग —

यदि आप तुकमलंगा के बीजों का प्रयोग कर रहे हैं तो इसके लिए आपको इन्हें पानी में 20 से 30 मिनट तक भिगोना होगा इसके बाद आप इन बीजों का आप सेवन कर सकते हैं। इसको आप दही, आइसक्रीम, शरबत, नीबू पानी के साथ भी ले सकते हैं।

  • तुकमलंगा के चूर्ण का उपयोग

इसके लिए आपको तूकमलंगा के बीजों के चूर्ण की 1-2 ग्राम मात्रा को ही लेना चाहिए।

तुकमलंगा के नुकसान — Side Effect of Tukmalanga in Hindi

तुकमलंगा के बहुत से फायदों के सामने इससे होने वाले नुकसान कुछ भी नहीं हैं फिर भी हम आपको यहां इससे होने वाले कुछ नुकसान के बारे में बताने जा रहे हैं जो निम्न हैं —

  • यदि आप गर्भवती महिला हैं तो आपको तुकमलंगा (Tukmalanga) के सेवन से नुकसान हो सकता है। इसके सेवन से पहले आपको अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य करनी चाहिए।
  • स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी तुकमलंगा के सेवन में सावधानी बरती चाहिए। इसके प्रयोग से पहले डॉक्टर से सलाह अवश्य करें।
  • यदि आपको तुकमलंगा (Tukmalanga) में पाये जाने वाले तत्वों से एलर्जी है तो आपको इसके से बचना चाहिए इसके सेवन से आपको परेशानी हो सकती है।
  • यदि आप किसी बिमारी के लिए दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो आपको तुकमलंगा (Tukmalanga) के प्रयोग से पहले अपने डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए।
  • आपको तुकमलंगा (Tukmalanga) का सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए इसमें पाया जाना वाले फाइबर की उच्च मात्रा आपका पेट खराब कर सकती है।

दोस्तों उपरोक्त लेख ” Tukmalanga — तुकमलंगा के फायदे और नुकसान ” में अपने आपको तुकमलंगा के बारे में पूरी जानकारी दी है जो आपके लिए बहुत ही फायदेमंद होगी। अगर यह लेख आपको अच्छा लगा तो आप इसको अपने दोस्तों के साथ शेयर अवश्य करें।

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap