सुपारी खाने के फायदे | Betel Nut Benefits and Side Effects in Hindi

सुपारी खाने के फायदे – भारत में सुपारी का प्रयोग वर्षो से किया जाता रहा है। इसको मुख्य रूप से दो प्रकार से मुख्य रूप से प्रयोग किया जाता है। एक तो पूजा में और दूसरा पान—मसाले एवं तम्बाकू उत्पादों में। क्या आप जानते है। सुपारी सिर्फ इन दो ही जगहों पर प्रयोग नहीं होती बल्कि इसका प्रयोग आयुर्वेद में दवा के रूप में भी किया जाता है। आप सुपारी के सेवन से पाचन, कब्ज, एनीमिया एवं दांत दर्द से जुड़ी परेशानियों में राहत प्राप्त कर सकते हैं।

हम इस लेख में आपको सुपारी से जुड़ी सभी जानकारी देने जा रहे हैं जिसमें हम आपको सुपारी क्या है, सुपारी के फायदे, सुपारी में पाये जाने वाले पौष्टिक तत्व, सुपारी के नुकसान आदि की जानकारी देंगे। तो आइये शुरू करते हैं इस लेख को — सुपारी खाने के फायदे – Betel Nut Benefits and Side Effects in Hindi, supari ke fayade aur nukshan

Table of Contents

सुपारी क्‍या है – What is Betel Nut in Hindi

सुपारी एक पेड़ पर लगने वाला फल है। सुपारी को अंग्रेजी में बीटल नट (Betel Nut) कहते हैं और इसका वैज्ञानिक नाम अरेका कटेचु (Areca Catechu) है। सुपारी का पौधा काफी ऊंचा होता है और इसके तने पर छल्लेदार उभार पाये जाते हैं। इसकी पत्तियां चौड़ी होती हैं। सुपारी की तासीर अम्लीय और गर्म होती है। इसी कारण इसका प्रयोग औषधि के रूप में किया जाता है। यह दक्षिण एवं दक्षिण-पूर्व एशिया के सथ ही अफ्रीका के कई भागों में उगाया जाता है।

सुपारी के फायदे – Benefits of Betel Nut in Hindi

सुपारी हमारे लिए किस प्रकार फायदेमंद है इसको हम आगे को बताने जा रहे हैं — Benefits of Betel Nut (Supari) in Hindi

1. स्ट्रोक में सुपारी के फायदे —

सुपारी स्ट्रोक के खतरे को कम करने में मदद कर सकती है। लाल सुपारी की पत्तियों में आइसोप्रेनॉइड, एमिनो एसिड, फ्लेवोनोइड, सायनोजेनिक, ग्लूकोसाइड, एल्कलॉइड, यूजेनॉल, टेरपीनोइड और टैनिन जैसे  तत्व होते हैं जो संयुक्त रूप से स्ट्रोक अर्थात मानसिक और हृदय से संबंधित खतरे को कम करने में सहायता करते हैं। लाल सुपारी की पत्तियों के साथ ही आप सुपारी का भी प्रयोग कर स्ट्रोक के खतरे बच सकते हैं।

2. एनिमिया में सुपारी के लाभ —

शरीर में खून की कमी को ही एनीमिया कहा जाता हैै। सुपारी के प्रयोग आप एनिमिया के रोग में लाभ प्राप्त कर सकते हैं। मगर आपको सुपारी का अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए इससे आपकेा नुकसान हो सकता है। इसके प्रयोग से पहले आपको अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य कर लेनी चाहिए।

3. पाचन प्रक्रिया के सुधार में सुपारी के फायदे —

यदि आप सुपारी का प्रयोग करते हैं तो इससे आपके मुंह में लार बनने की प्रक्रिया बढ़ जाती है। जो पाचन को बढ़ाने का एक अंग है। सुपारी पाचक रसों के उत्पादन को बढ़ाने में मदद करता है। जिससे आपका पाचन तंत्र मजबूत हो जाता है। इसके अतिरिक्त कब्ज के रोग में भी यह बहुत ही लाभकारी है।

4. सूखे मुंह में सुपारी का फायदे —

यदि आप सुपारी चबाते हैं तो आपके मुंह में अत्यधिक लार बनने लगती है और आपके मुंह सूखे की समस्या में आराम मिलता है। यदि आप मुंह सुखने की समस्या से परेशान हैं तो आपको सुपारी का प्रयोग करना चाहिए।

5. कब्ज में सुपारी के लाभ —

उपर हमने जाना की सुपारी के प्रयोग से पाचक रसों का निर्माण बढ़ जाता है और आपकी पाचन शक्ति बढ़ जाती है। यदि आपको कब्ज की समस्या है तो आपको सुपारी के प्रयोग से लाभ होगा।

6. पेशाब करने में परेशानी में सुपारी के फायदे —

यदि आपको पेशाब से जुड़ी कोई समस्या है तो आपके लिए सुपारी का प्रयोग करना लाभकारी हो सकता है। सुपारी में सैफ्रोल (Safrole) नाम तत्व होता है जो मूत्राशय की प्रक्रिया में सुधार करता है और पेशाब में आने वाली परेशानी से भी मुक्ति मिलती है।

7. मांसपेशियों के लिए सुपारी के फायदे

सुपारी का सेवन कर आप अपनी मांसपेशियों को मजबूती कर सकते हैं। सुपारी में पाये जाने वाले एल्कलॉइड में एंटी-मस्कैरेनिक (तंत्रिका तंत्र में आने वाले अवरोध को हटाना) गुण पाये जाते हैं। जो मांसपेशियों को नरम करने के लिए है और उन्हें मजबूत बनने में मदद करता हैं।

8. मतली सर उल्टी में सुपारी के लाभ —

यदि आपको मतली या उल्टी की समस्या है तो आपको सुपारी का सेवन करना चाहिए इससे आपको राहते मिलेगी। एक शोध के अनुसार यह भूख को दबाता है और मतली की समस्या को भी कम करने में सहायता प्रदान करता है।

9. दांतों के पीलेपन में सुपारी के लाभ —

सुपारी में एन्थेलमिंटिक तत्व पाया जाता है जो परजीवी को नष्ट करता है। इसकी कारण से यह दांतों पर जमने वाले कैविटी को समाप्त करने में सहायक माना गया है। यदि आपके दांत पीले हैं तो इसको ठीक करने के लिए आप सुपारी का प्रयोग कर सकते हैं।

10. डायरिया  में सुपारी के फायदे —

डायरिया होने पर आप सुपारी के प्रयोग से इससे बच सकता हैं। सुपारी में पाये जाने वाला पॉलीफेनोल्स तत्व जिनमें एंटी-एलर्जी एवं इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गुण होते हैं जो डायरिया के रोग को कम करने में मदद करता है।

सुपारी से होने वाले नुकसान – Side Effects of Betel Nut in Hindi

सुपारी खाने के फायदों के साथ ही इसके कुछ नुकसान भी होते हैं। यदि आप सुपारी का अत्यधिक सेवन करते हैं तो इससे आपको कई प्रकार के दुष्परिणाम झेलने पढ़ सकते हैं। इसकी कारण से इसकी नियंत्रित मात्रा के सेवन की सलाह दी जाती है। सुपारी से होने वाले कुछ नुकसान निम्न हैं —

  • पेट में दर्द होना
  • मुंह का सुखना और अधिक प्यास लगना
  • पुतलियों का सिकुड़ना
  • चेहरा लाल हो जाना
  • अधिक पसीना आने की समस्या
  • सांस का भारी होना
  • सांस लेने में परेशानी होना
  • मांसपेशियों में दर्द
  • दिल की धड़कन धीमी होना

यदि आप अधिक समय तक सुपारी का सेवन करते हैं तो आपको इससे होने वाले फायदों के स्थान पर नुकसान हो सकते हैं। यदि आपको इसकी लत लग जाये तो यह कई प्रकार की बिमारी का कारण हो सकती है। आपको यही सलाह दी जाती है कि आप सुपारी का प्रयोग कभी—कभी करें जिससे आपको इसकी आदत न पढ़े। अधिक मात्रा में सुपारी का सेवन करने से भी आपको नुकसान हो सकता है। अत: आपको इसके प्रयोग में थोड़ी सावधानी बरतनी चाहिए।

आपको यह लेख कैसा लगा हमने इस लेख में आपको सुपारी से जुड़ी जानकारी देने की कोशिश की है। यदि आपको यह अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ इस लेख को शेयर अवश्य करें।

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap