मेदोहर गुग्गुल के गुण, उपयोग, फायदे व नुक्सान Medohar Guggulu benefits and side effects in hindi

Medohar Guggulu benefits and side effects — मेदोहर गुग्गुल या इसे हम मेदोहर वटी भी कह सकते हैं। यह एक आयुर्वेदिक दवा है, यह दवा मुख्य रूप से पेट की चर्बी की कम करने अर्थात मोटापा कम करने के काम आती हैं तथा इसके साथ यह पाचन तंत्र से जुड़ी अनेक बिमारियों के इलाज में भी लाभदायक है।

मेदोहर गुग्गुल में एक प्रकार का एंटीओ​बेसिटी पाया जाता है जो शरीर में वसा को जमने नहीं देता है और यह भूख, पाचन और शरीर के मेटाबोलिज्म में सुधार करता है जिससे हमारे शरीर का वजन नहीं बढ़ता है और शरीर तन्दुरूस्त रहता है।

इस दवा का निर्माण कई कम्पनियां करती है। जिनमें प्रमुख हैं पतंजलि, बैद्यनाथ और व्यास। मेदोहर गुग्गुल को बाजार या ऑनलाइन भी खरीदा जा सकता है। इस दवा का मूल्य 150 से 200 के बीच हो सकता है।

मेदोहर गुग्गुल क्या है Medohar Guggulu in Hindi

Medohar Guggulu (मेदोहर गूगल) में मोटापा कम करने के औषधीय गुण पाए जाते हैं। इस औषधी का मुख्य घटक त्रिफला एवं गूगल है। ये दोनों जड़ी—बूटियां मोटापे व सूजन को कम करने के लिए प्रयोग की जाती हैं।

मेदोहर गूगल का अगर रोजाना सेवन किया जाय तो शरीर के बढ़ते वजन को नियंत्रित किया जा सकता है। इस दवा में प्रयुक्त की जाने वाली जड़ी त्रिफला का विशेष गुण ही फैट को नियंत्रित करना है।

त्रिफला के साथ गूगल के मिलने से यह और अधिक असरकारी हो जाती है। अत: अगर आप बढ़ते वजन से परेशान हैं तो आपको नियमित रूप से मेदोहर गूगल का प्रयोग करना चाहिए। 

वर्तमान समय में हमारी दिनचर्या इस तरह की हो गयी है कि हम अपने रोज की जरूरत के हिसाब से ज्यादा कैलोरी भोजन के रूप में खा लेते हैं, पर इस कैलोरी का प्रयोग नहीं होता है अर्थात हम अधिक परिश्रम वाले कार्य नहीं करते हैं।

जिस कारण हमारा वजन बढ़ता जाता है और शरीर में अतिरिक्त चर्बी जमा होने लगती है। इससे हमें शरीर में कोलेस्ट्रोल बढ़ने की समस्या पैदा हो जाती है।

अतिरिक्त बढ़ते वजन के लिए आप क्या—क्या नहीं करते जैसे डायट, योगा, व्यायाम, जिम आदि। मोटापे को कम करने का सबसे सही तरीका अपनी दिनचर्या को सुधारना है।

इसके लिए रोजमर्रा के भोजन को संतुलित करना होगा साथ ही व्यायाम या योगा भी करें जिससे आप अपने बढ़ते वजन को नियंत्रित कर सकें।

अक्सर इस व्यस्त होने जीवन में लोगों के पास इतना समय नहीं होता है कि वह व्यायाम करें इसके लिए आपको घबराने की जरूरत नहीं है। इसके लिए आयुर्वेद में एक आसान व कारगर उपाय है जो है मेदोहर गूगल। यह बढ़ते वजन को कम करने में एक रामबाण उपाय सिद्ध हो सकती है।

मोटापे के बढ़ने से हमारा शरीर कई प्रकार की बिमारियों का घर बन जाता है जैसे डायबिटीज, उच्च रक्तचाप एवं हृदय से सम्बन्धित समस्याये। इसलिए सही वक्त में ही बढ़ते वजन या मोटापे का इलाज कर लेना चाहिए जिससे आपको स्वास्थ्य बना रहे। Medohar Guggulu in Hindi

(अधिक जाने— मोटापा कम करने का रामबाण इलाज)

Table of Contents

मेदोहर गूगल के औषधीय तत्व Medohar Guggulu Ingredients in Hindi

मेदोहर गुग्गुल में कई प्रकार की जड़ी का प्रयोग किया जाता है। इसमें प्रधान रूप से गुग्गुल का प्रयोग होता है लेकिन बाजार में मिलने वाली अलग—अलग कम्पनी की दवा में इसकी मात्रा कम या ज्यादा हो सकती है।

अत: खरीदने से पहले इसको अवश्यक देखें। इस दवा में गुग्गुल की मात्रा 30 से 40 प्रतिशत तक हो सकती है।  नीचे इसमें प्रयुक्त होने वाली जड़ी—बूटियां दी गयी हैं —

गुग्गुल —

गुग्गुल पेड़ से प्राप्त एक प्रकार की गोंद है। यह ऐसी आयुवेर्दिक जड़ी है जो मोटापे को कम करती हैं इसके साथ ही यह शरीर के सूजन व शरीर में बनने वाले कोलेस्ट्रोल को भी कम करती है।

इसका प्रयोग आयुर्वेद में आर्थराइटिस, गाउट तथा सूजन को कम करने लिए प्रमुख रूप से किया जाता है। यह हमारे पाचन तंत्र को व मेटाबोलिज्म को सुधारने में मदद करता है।

त्रिकटु, पिपली, मरीच काली मिर्च, सोंठ

इन चारों को को समान मात्रा में मिलाया जाता है। यह मिश्रण हमारे पाचन तंत्र, श्र्वास सम्बन्धी समस्याओं के लिए लाभदायक होता है।

अदरक—

अदरक जिसके सूखे हुए रूप को सोंठ कहा जाता है। यह एंटी एलर्जी, सूजन दूर करने, ज्वरनाशक, एंटीआक्सीडेंट, एंटीसेप्कि, हृदय सम्बन्धी रोगों एवं ब्लड शुगर को नियंत्रित करता है ।

यह एक खुशबूदार जड़ी है यह भूख बढ़ाने के लिए भी प्रयोग किया जाता है।

मरीच या मरीचा—

इसे आम भाषा में काली मिर्च कहते है और अंग्रेजी में ब्लैक पेपर भी कहते हैं। यह पौधे से प्राप्त बिना पका फल है। इसका स्वाद कड़वा तासीर गर्म होती हैं यह पाचन तंत्र व श्वसन संस्थान पर इसका प्रभाव होता है।

इसके अतिरिक्त यह एंटी पिरियोडिक, ज्वारनाशक एवं कृमिनाशक भी होता है।

त्रिफला—

यह आयुर्वेद में कई बिमारियों के इलाज के लिए प्रयुक्त की जाती है। त्रिफला का निर्माण हरड़, बहेड़ा व आंवले को बराबर मात्रा में मिलाकार बनाया जाता है। इसका मुख्य रूप से प्रयोग दस्त को ठीक करने के लिए किया जाता है। 

यह शरीर में पैदा होने वाली गन्दी को साफ करने के साथ ही हमारे पाचन तंत्र को सही करता है। इसके साथ ही यह कब्ज में भी लाभ दायक है।

पिपली— 

यह खांसी, स्वर या गला,  बैठना, दमा, अपच, तथा पक्षाघात में प्रयोग की जाती हैं इसकी तासीर गर्म होती हैं पिपली के पाउडर में शहद को मिलाकर खाने से खांसी, अस्थमा के साथ ही अनिद्रा के इलाज में फायदा होता है। इसका प्रयोग एक टॉनिक के रूप में भी किया जाता है।

नागरमोथा—

इसका वैज्ञानिक नाम साइप्रस स्केरियस है। संस्कृत में इसे नागरमुस्तक कहा जाता है। इसको एक खरपतवार के रूप में पूरे भारत में उगाया जाता है। इसका पौधा अधिक पानी वाली जगह पर होता है।

इसकी जड़े कंद के रूप में होती है जिनका प्रयोग आयुर्वेद में औषधी के रूप में किया जाता है। यह एक सुगन्धित कंद है जिससे इत्र का निर्माण किया जाता है और अरोमाथेरेपी में भी इसका प्रयोग किया जाता है।

इसमें रक्तचाप को कम करने, सूजन को दूर करने, तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करने, बुखार को ठीक करने के साथ ही मूत्रवर्धक के गुण पाये जाते हैं।

बायविडंग—

वायविडंग विशेष रूप से कृमि रोग, कफ रोगों व मेदवृद्धि में प्रयोग ​की जाती है। यह जड़ी एंटीबैक्टीरियल, कृमिनाशक एवं एंटीबायोटिक होती है। इसका प्रयोग विशेष रूप से पेट में पैदा होने वाले कृमियों अर्थात कीड़ों के लिए किया जाता है।

इसके अलावा यह पेट सम्बन्धी रोगों जैसे कब्ज, अपच, पाइल्स, अफारा आदि में भी लाभदायक होती है।

चित्रकमूल—

यह वातनाशक, कफनाशक, आमपाचन, रक्तशोधन एवं पित्तवर्धक होती है। इसकी तासीर गर्म होती है इस कारण से इसका प्रयोग कम मात्रा में करना उचित होता है। इसका प्रयोग गर्भवती महिलाओं ने नहीं करना चाहिए।

अरंड का तेल—

केस्टर आयल या अरंड का तेल एक वनस्पति तेल है जिसे अरंडी के बीजों से प्राप्त किया जाता है। इसका कोई स्वाद या रंग नहीं होता है। इसका प्रयोग कब्ज के इलाज के लिए किया जाता है। इसका प्रयोग गर्भावस्था में नहीं किया जाना चाहिए।

उपरोक्त सभी औषधियों को मिलाकर ही  मेदोहर गूगल को निर्माण किया जाता है। जो अन्य बिमारियों के साथ विशेष रूप से मोटापे को कम करने के लिए अत्यंत लाभकारी होता है।

मेदोहर गुग्गुल के फायदे Medohar Guggulu Benefits in Hindi

मोटापा कम करने में मेदोहर गुग्गुल के फायदे Medohar Guggulu benefits in obesity in hindi

अक्सर व्यस्त होते जीवन में लोगों के पास व्यायाम व योगा के लिए समय ही नहीं होता है और अनियमित खान—पान से उनका वजन बढ़ता ही जाता है और वो मोटापे के शिकार हो जाते हैं।

इसके लिए आपको घबराने की आवश्यकता नहीं है इसके लिए आयुर्वेद में एक आसान व कारगर उपाय है जो है मेदोहर गूगल। इसका मुख्य कार्य वसा को नियंत्रित कर मोटापे को दूर करना है।

इसके नियमित सेवन से शरीर की अतिरिक्त चर्बी धीरे—धीरे कम हो जाती है जिससे शरीर का वजन कम होने लगता है और मोटापा घट जाता है।

पाचन संस्थान के लिए मेदोहर गूगल के फायदे Medohar Guggulu benefits for digestion in hindi

वैसे तो मेदोहर गूगल का मुख्य कार्य शरीर का वजन व मोटापा कम करना है। लेकिन इसमे प्रयुक्त होने वाली अन्य जड़ी—बूटियां जैसे त्रिफला, त्रिकटु, पिपली, सोठ एवं अन्य हमारे पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद होती हैं।

इसी कारण से मेदोहर गूगल का नियमित सेवन करना हमारे पाचन तंत्र को सही करता है। इससे अपच, भूख बढ़ना, गैस, खट्टी डकार आना जैसी अन्य पेट से जुड़ी हुई बिमारियां दूर हो जाती है।

ब्लड प्रेशर नियंत्रित करने में मेदोहर गूगल के फायदे Medohar Guggulu in blood pressure in hindi

अगर आप ब्लड प्रेसर की समस्या के ग्रसित हैं तो आपके लिए मेदोहर गूगल फायदेमंद हैं क्योंकि इसमें पाया जाने वाला बायबिडिंग ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है। इसके अलावा यह कोलेस्ट्रोल को भी नियंत्रित करता है।

मेदोहर गूगल की सेवन विधि Medohar Guggulu dosage and directions of use

मेदोहर गूगल की एक से दो गोली को दिन में दो बार लिया जा सकता है। पर ध्यान देने योग्य बात यह है कि इसे खाने के बाद ही लेना चाहिए। गोली को गर्म पानी के साथ ही प्रयोग करें।

मेदोहर गूगल के प्रयोग के समय बरती जाने वाली सावधानियां Precuations while using Medohar Guggulu

  • मेदोहर गूगल की जरूरत से ज्यादा मात्रा का प्रयोग ना करें । इसकी मात्रा के लिए डॉक्टर से सलाह करनी चाहिए।
  • अगर आप इस दवा का प्रयोग कर रहे हैं तो खूब पानी पियें। औषधी के आधा घण्टे के बाद गर्म पानी आवश्य पियें।
  • अगर आपको इस दवा का असर जल्दी चाहिए तो अपने भोजन में सलाद का प्रयोग अवश्य करें। और यह ध्यान रखें कि तली भुनी व जंक फूड का सेवन ​बिल्कुल न करें।
  • घी, तेल से बनी वस्तुओं और मिठाई का प्रयोग न करें।
  • 13 साल से कम उम्र के बच्चों को यह दवा नहीं देनी चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं को इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए इससे उन्हें नुकसान हो सकता है।
  • मेदोहर गूगल में त्रिफला, त्रिकटु के अलावा अन्य प्रकार की जड़ी—बूटियां होती हैं जिनका अधिक मात्रा में सेवन करने से दस्त लगने की सम्भावन रहती है।
  • इस दवा का प्रयोग अधिक समय तक न करें इसके लिए किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह अवश्यक करें।
  • अगर आप इस दवा का सेवन कर रहे हैं और शुगर की बिमारी से ग्रसित हैं तो यह ध्यान रखें कि यह दवा शुगर को भी कम करती है अत: समय—समय पर अपना ब्लड शुगर लेवल चेक करें।
  • अगर आप अल्कोहल लेते हैं और इस दवा का सेवन करने की सोच रहे हैं तो आपको अल्कोहल का सेवन छोड़ना पड़ेगा।
  • इस औषधि के ही प्रयोग से पूरी तरह से आपका वजन कम नहीं होता है इसके लिए अपने खान—पान को नियंत्रित व संतुलित करें, खूब पानी पिएं तथा प्रतिदिनि व्यायाम व योग करें जिससे आपको इस दवा के प्रयोग का सम्पूर्ण लाभ हो सके।

मेदोहर गूगल से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न Important questions regarding Medohar Guggulu

1. अपने स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए मुझे मेदोहर गूगल का उपयोग कितने समय तक करना चाहिए?

चिकित्सकों के अनुसार इसका प्रयोग कुछ ही समय के लिए करें ज्यादा से ज्यादा तीन माह तक करें। इससे ही आपको लाभ होगा। इसके आप किसी भी कम्पनी का मेदोहर गूगल प्रयोग कर सकते हैं।

2. मेदोहर गूगल को दिन में कितनी बार लेना चाहिए?

चिकित्सकों के अनुसार दिन में दो बार दो—दो गोली लेनी चाहिए। परन्तु फिर भी इसकी मात्रा व समय के लिए किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह करें।

3. मेदोहर गूगल को खाली पेट लेना चाहिए या नहीं?

नहीं आपको इसे खाने के बाद ही गर्म पानी के साथ लेना चाहिए।

4. क्या मेदोहर गूगल (Medohar Guggulu) को लेना एकदम से रोका जा सकता है ?

कभी—कभी कुछ कुछ दवाइयों को एकदम रोकने से कुछ दुष्प्रभाव पढ़ जाते हैं। अत: इसका प्रयोग रोकने से पहले डॉक्टर से अवश्य सलाह करें।

5. क्या मेदोहर गूगल (Medohar Guggulu) का उपयोग गर्भवती महिलायें कर सकती हैं?

नहीं गर्भवती महिलाओं को इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए फिर भी अपने डॉक्टर से सलाह करें।

6. क्या मेदोहर गूगल का उपयोग स्तनपान के दौरान करना चाहिए?

इस बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है कि बच्चों को स्तनपान कराते समय इसका प्रयोग करना चाहिए या नहीं इसके लिए कृपया अपने डॉक्टर से अवश्य सलाह कर लें।

7. क्या यह दवा सभी लोगों पर एक जैसा असर डालती हैं?

जी नहीं हर व्यक्ति की बनाव व उसका मेटाबोलिज्म अलग होता है। इस कारण से इस दवा का असर प्रत्येक व्यक्ति पर अलग—अलग होता है।

8. क्या मेदोहर गूगल के प्रयोग से वजन घट जाता है?

मेदोहर गूगल के प्रयोग से अधिकतर मामलों में वजन घटता है। परन्तु इस दवा के प्रयोग के साथ—साथ अपने खान—पान व ​दिनचर्या के साथ ही व्यायाम भी करना आवश्यक होता है। इस दवा के प्रयोग के समय कई प्रकार के परहेज करने आवश्यक हैं जिससे आपके वजन घटने में मदद हो सके।

अगर यह सब करने के बाद भी आपका वजन नहीं घट रहा है तो इसके लिए आपको किसी अच्छे चिकित्सक से सम्पर्क करना चा​हिए। क्योंकि अभी तक ऐसा कोई भी मामला सामने नहीं आया है कि इसके प्रयोग से वजन न घट रहा हो।

(अधिक जानें: अश्वनी मुद्रा के फायदे)

Leave a Comment

Copy link