केसर के फायदे-Saffron Benefits in Hindi

केसर दुनियाभर में सबसे मूल्यवान मसालों में से एक है। इसे लाल सोना (रेड गोल्‍ड) के नाम से भी जानते हैं। केसर के पौधे मूल रूप से भूमध्यसागरीय क्षेत्र पाये जाते हैं।

इसका सबसे ज्यादा उत्पादन करीब 94 प्रतिशत ईरान में किया जाता है। हमारे देश भारत में जम्‍मू-कश्‍मीर और हिमाचल प्रदेश में केसर की खेती प्रमुखता से की जाती है। जम्मू कश्मीर हमारे देश का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य है।

केसर के फायदे(Saffron Benefits in Hindi)केसर एंटीऑक्‍सीडेंट्स से युक्‍त होता है। इसके साथ ही इसमें अन्‍य कई घटक भी पाये जाते हैं जो रोग पतिरोधक क्षमता को बढ़ाने व हमारे स्वास्थ्य को ठीक रखने में मदद करते हैं। इसमें  पोटेशियम, कैल्शियम, आयरन के अलावा  विटामिन सी व विटामिन ए प्रचुरता में पाये जाते हैं।

Table of Contents

केसर क्या है – What is Saffron in Hindi

केसर क्रोकस सैटाइवस के फूल की वर्तिकाग्र को कहते हैं। इसका वैज्ञानिक नाम भी क्रोकस सैटाइवस ही है। केसर का उपयोग मुख्य रूप से एक मसाले और कलर एजेंट की तरह किया जाता है। यह दिखने में पतला धागों जैसा होता है।

भारत में यह विभिन्न नामों से जाना जाता हैं जैसे हिन्दी में केसर, बंगाली में जाफरान, तेलुगु में कुमकुमा पुब्बा, तमिल में कुमकुमापू, और अरबी भाषा व उर्दु में इसे जाफरान कहा जाता है।

मुख्य रूप से केसर भूमध्यसागरीय क्षेत्र में होता है। विश्व में ईरान केसर का सबसे बड़ा उत्पादक देश है।

केसर को फूल से अलग करना बहुत कठिन काम है। इसकी फसल को प्रत्येक वर्ष नहीं काटी जाती है कुछ वर्षों में केवल एक बार ही फसल काटी जाती है।

1 किलो ग्राम केसर को जमा करने के लिए लगभग 1,60,000  छोटे फूलों को प्रोसेज किया जाता है। इसमें लगने वाले समय व मेहनत के कारण ही यह एक कीमती मसालों में शुमार है। केसर को पानी या किसी अन्‍य तरल में डालने पर अगर सुनहरा पीला रंग आता है तो वो केसर असली है।

केसर का उपयोग कई प्रकार के व्यंजनों विशेषकर मुगलई व्‍यंजनों में केसर का प्रयोग किया जाता है। इसके अलावा मिठाई खासतौर पर खीर और पाइसम में इसका स्‍वाद बढ़ाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।

केसर का पौधा खुशबूदार होता है इसी कारण से इसका प्रयोग परफ्यूम और कॉस्‍मेटिक को बनाने में भी किया जाता है। चीन और भारत में केसर का प्रयोग कपड़ों को रंगने के लिए भी किया जाता है। इतना ही नहीं केसर का प्रयोग धार्मिक कार्यों में भी किया जाता है।

केसर के पौष्टिक तत्व – Saffron Nutritional Value in Hindi

केसर में कई प्रकार के मिनरल्स पाये जाते हैं जैसे कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटैशियम, सोडियम, जिंक। इसके अलावा विटामिन भी प्रचूर मात्रा में पाये जाते हैं। इसमें पाये जाने वाले विटामिन — विटामिन सी, थियामिन, राइबोफ्लेविन, नियासिन, विटामिन-बी6, फोलेट, विटामिन-बी12, विटामिन ए, विटामिन-डी (डी 2 + डी 3)। इसमें फैटी एसिड भी पाया जाता है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है।

केसर हमारी सेहत के लिए क्यों है फायदेमंद ?

केसर एक बहुत से गुणों से भरा पिटारा है, जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहत फायदेमंद हो सकता है। इसमें कई प्रकार के पोषक तत्व पाये जाते हैं जैसे, फाइबर, मैंगनीज, विटामिन सी, विटामिन ए, पोटेशियम, आयरन, एवं प्रोटीन आदि। फाइबर हमारे पेट से जुड़ी समस्या जैसे अपच, कब्ज, गैस व मोटापे से मुक्ति दिलाने में मदद करता है। वहीं विटामिन सी त्वचा को एंटी एजिंग प्रभावों से निजात दिलाने का काम करता है। केसर में मौजूद पोटेशियम एवं आयरन शरीर की प्रतिरोधकता को बढ़ाने व शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है।

केसर के फायदे – Benefits of Saffron in Hindi

केसर के फायदे हृदय के लिए – Saffron benefits for heart in Hindi

ह्रदय स्वास्थ्य के लिए केसर बहुत ही लाभकारी है। केसर रक्त-चाप के स्तर को नियंत्रित रखने व बेड कोलेस्ट्रॉल को शरीर में कम करने में मदद करता है। यह रक्त-धमनियों में जमा होने वाले प्लाक को हटाने में मदद करता है और रक्त-प्रवाह को सही रखता है। केसर में क्रोकेटिन नामक एक रसायन पाया जाता है जिसके कारण रक्त प्रवाह को बढ़ाने में सहायता मिलती है और रक्तचाप नियंत्रित रहता है। पर यह ध्यान दें की केसर की अधिक मात्रा का सेवन न करें। हृदय के लिए केसर के 2 से 3 रेसे लेकर गर्म दूध में मिला लेना चाहिए और दिन में एक बार इसका प्रयोग करना चाहिए। ऐसा करने से आपको हृदय से सम्बन्धित बिमारियों से मुक्ति मिल जाएगी।

कैंसर के लिए केसर के फायदे  – Kesar for Cancer in Hindi

केसर कैरोटीनोइड (carotenoids) नामक तत्व से युक्त है यह तत्व हमें कैंसर से बचाने में सहायता कर सकता है। केसर में पाया जाने वाला क्रोसिन स्तन कैंसर और ब्लड कैंसर को होने से रोकता है। ​वैज्ञानिकों के अनुसार क्रोकेटिनिक एसिड अग्नाशयी कैंसर (pancreatic cancer) को होने से रोकने की क्षमता होती है। क्रोकेटिनिक एसिड कैंसर की कोशिकाओं को हानी पहुंचाकर उनकों नष्ट कर देता है। यह कैंसर को रोकने में सहायता करता है। यदि हम नियमित रूप से केसर का प्रयोग करते हैं तो ट्यूमर को बढ़ने से रोक सकते हैं। यह त्वचा के कैंसर को रोकने में अहम भूमिका निभाता है।

केसर के प्रेगनेंसी में फायदे – Kesar for pregnancy in Hindi

गर्भवती महिलाओं में गैस व सूजन की समस्या होना एक आम बात है। इससे छुटकारा पाने के लिए एक गिलास दूध में केसर को मिलाकर पीना चाहिए। गर्भवती महिलाओं का में चिंता और अवसाद जैसी समस्या होना आम बात होती है। केसर एक अवसाद विरोधक के रूप में कार्य कर सकता है। गर्भावस्था में कई प्रकार की समस्यायें होती है जिससे अनिद्रा की समस्या हो सकती है इसको ठीक करने में केसर मदद कर सकता है। परन्तु गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर की सलाह के बाद ही केसर का सेवन करना चाहिए।

पाचन शक्ति को बढ़ाये केसर — Saffron for digestion in Hindi

केसर का प्रयोग एसिडिटी एवं गैस जैसी पाचन से जुड़ी समस्याओं के ईलाज के लिए केसर का प्रयोग किया जाता है। इसके अलावा, केसर में पेट में गैस को कम करने व पेट के दर्द को भी ठीक करने के गुण पाये जाते हैं। अपने पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए आपको प्रतिदिन केसर की जाय पिनी चाहिए।

केसर के फायदे यौन स्वास्थ्य के लिए – Kesar for Sexual Health in Hindi

केसर का उपयोग यौन कार्य को बेहतर करने के किया जाता है। इससे कोई साइड इफैक्ट भी नहीं होता है। केसर पुरुष प्रजनन प्रणाली के लिए लाभकारी है। केसर के प्रयोग से पुरुषों में बांझपन को सही करने में सहायता कर कर सकता है। इसके प्रयोग से पुरुषों में बांझपन के इलाज में मदद मिल सकती है।

स्मरण शक्ति में सुधार लाने में केसर के फायदे – Saffron for memory in Hindi

केसर दिमाग आपके दिमाग को अल्ज़ाइमर व स्मरण-शक्ति से सम्बंधित अन्य विकारों से बचाता है। एक रिपोर्ट के अनुसार केसर संज्ञात्मक शक्ति में सुधार करके अल्ज़ाइमर को ठीक करने में मदद कर सकता है। इसके प्रयोग से आप सीखने और याद करने की क्षमता को बढ़ा सकते हैं।

आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए केसर – Kesar for eyes in Hindi

केसर में एंटीऑक्सीडेंट्स और कैरोटीनोइड का काफी अच्छा मात्रा में पाये जाते हैं। इसमें मौजूद प्राकृतिक कैरोटीनोइड, क्रोसिन, क्रोकेटिन, पिक्रोक्रोकिन और फ्लैवोनोइड्स की मात्रा उम्र बढ़ने से होने वाली आंखों की समस्या को ठीक करने में सहायता करता है।

केसर से चेहरे की रंगत में सुधार – Kesar benefits for skin in Hindi

केसर में पाये जाने वाले गुण त्वचा के रंग को हल्का करने में सहायता करते हैे हैं। केसर के प्रयोग से केवल आपकी त्वचा के रंग को निखारते हैं परन्तु इससे रोग मु​क्त  करने के साथ ही अपनी त्वचा को रोग मुक्त व सुन्दर बनाने में मदद कता है।

बढ़ती उम्र में केसर के फायदे – Saffron slows down the process of aging in Hindi

केसर में एंटी-ऑक्सीडेंट की प्रचूर मात्रा पाई जाती है। जो वक्त से पहले आने वाले बुढ़ापे को रोकने में मदद करता है। यह मुँहासे, झुर्रिया, धब्बे और आंखों के नीचे के काले निसानों के लके इलाज के लिए उपयोग है।

केसर अस्थमा के उपचार में लाभदायक – Saffron for asthma in Hindi

अस्थमा के रोगियों को केसर सही प्रकार से सांस लेने में मदद करता है। इसके प्रयोग से फेफड़ों में जलन व सूजन को कम किया जा सकता है। इसका प्रयोग अस्थमा के उपचार के लिए प्राचीन काल से ही होता रहा है। इसका उल्लेख आयुर्वेद में भी मिलता है कि केसर का प्रयोग अस्थमा के इलाज के लिए किया जाता है।

केसर दूध के फायदे उपयोग का उपयोग – How to Use Saffron in Hindi

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने से लेकर त्वचा को खुबशुरत करने के लिए प्रतिदिन 1 गिलास केसर वाले दूध का प्रयोग करने से आश्चर्यजनक हेल्‍थ बेनिफिट्स kesar wala doodh health benefits main हो सकते हैं।

हम आपको यहां केसर दूध से होने वाले फायदों के बारे में तो बतायेंगे ही साथ ही इसे कैसे बनाया जाता है यह जानकारी भी देंगे।

केसर भारत का एक लोकप्रिय मसाला है इसका प्रयोग मसालों के लिए साथ ही स्वास्थ्य लाभ के लिए भी किया जाता है। केसर आपकी हेल्‍थ और स्किन के लिए भी बहुत फायदेमंद है। केसर एंटीऑक्सीडेंट गुणों से युक्त है यह आपके स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। इससे होने वाले फायदों के बारे में हम आपको उपर बता चुके हैं अत: हम यहां आपको इसको कैसे बनाया जाता है यह बताने जा रहे हैं।

 केसर का दूध कैसे बनाएं? —

  • सबसे पहले एक गिलास में गर्म दूध लेते हैं।
  • फिर इस गर्म दूध में केसर की कुछ रेशों को डालते हैं। 
  • कुछ समय तक इसको ऐसे ही छोड़ देते है। 
  • कुछ समय के बाद इसे चीनी या शहद ​को मिलाते हैं पर यह ध्यान दें की इसमें जरूरत से ज्यादा चीनी न मिलायें।
  • इसमें आप नट्स भी डाल सकते हैं।

केसर को कैसे स्टोर करें – How to store saffron in Hindi

केसर का सही चुनावा करना जरूरी है। केसर पूरे वर्ष बाजार में उपलब्ध रहता है। यह धागे और  पाउडर के रूप में मिलता है। केसर को किसी प्रतिष्ठित दुकान से ही खरीदे। यह जरूर देख लें की यह गहरे लाल रंग का हो। लाल रंग, बेहतर गुणवत्ता के केसर को दर्शाता है।

इनका सिरा नारंगी रंग का होना चाहिए। पर ध्यान रहे कि इनमें पीले रंग का कोई भी निशान नहीं होना चाहिए। पीला रंग होना अर्थात केसर की निम्न गुणवत्ता। केसर में एक तेज सुगंध होनी चाहिए।

इसकी सुगंध मीठी सी होनी। केसर के रेशों का प्रयोग करना उचित होता है क्योंकि इसकी लाइफ पाउडर से ज्यादा होती है।

केसर को एयरटाइट बाक्स में रखना चाहिए। यह ध्यान दें की केसर के बाक्स को ठंडी, अंधेरी व सूखी जगह पर रखा जाय।

अगर केसर को सही प्रकार से स्टोर किया जाय तो यह वर्षो तक सही रह सकता है। परन्तु इसका प्रयोग दो साल के भीतर कर लेना चाहिए।

केसर के नुकसान – Side Effects Of Saffron in Hindi

केसर एक गुणों से भरपूर खाद्य पदार्थ है। इससे किसी को नुकसान होना ना के बराबर है। परन्तु  इसका अत्यधिक सेवन निम्नलिखित समस्याओं का कारण बन सकता है –

  • केसर में कैल्शियम की अत्यधिक मात्रा पाई जाती है और केल्शियम की अत्यधिक मात्रा गैस, कब्ज और पेट में सूजन का कारण हो सकता है।
  • इसमें पोटेशियम भी उचित मात्रा में पाया जाता है। शरीर में पोटेशियम की अधिक मात्रा होने से सीने में दर्द, सांस की तकलीफ, जी मिचलाना और उल्टी हो सकती है।

केसर एक महंगा मसाला है। इसकी थोड़ी-सी मात्रा ही हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी है। इसकी इतनी सी मात्रा हर किसी के द्वारा आसानी से खरीदी जा सकती है। अपने दैनिक जीवन में इसका प्रयोग करके हम इसका लाभ उठा सकते हैं। इससे होने वाले नुकसान नगण्य हैं। अत: हमें इसका नियमित सेवन करना चाहिए। परन्तु यह ध्यान देना चाहिए कि इसका प्रयोग एक निश्चित मात्रा में ही करें।

और पढ़े-

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap