Kari Patta | करी पत्ता खाने के फायदे और नुकसान

Kari Patta (करी पत्ते के फायदे और नुकसान) — यदि आपके मन भी करी पत्ते के बारे में कई प्रकार के सवाल है तो हम इस लेख के जरिये आपके उन सवालों को शांत करने की कोशिश करेंगे। इस लेख में हम आपके करी पत्ते से जुड़े कई सवालों के जवाब देने जा रहे हैं जैसे — करी पत्ता क्या है?, करी पत्ते के क्या फायदे हैं? करी पत्ते को खाने के नुकसान भी होता हैं? करी पत्ते को कितनी मात्रा में इस्तेमाल किया जा सकता है? आदि। तो आइये शुरू करते हैं इस लेख को —

Table of Contents

करी पत्ता क्या है — What is Curry Leaves?

करी पत्ते का पेड़ भारत के उप-उष्णकटिबंधीय क्षेत्र में बड़े पैमाने पर होता है। इसके पत्ते हरे रंग के मध्य आकार के होते हैं और इसमें बेहद ही बेहतरीन सुगंध होती है जिसे आप भोजन को बनाते हुये महसूस कर सकते हैं। करी पत्ते को मीठे नीम के नाम से भी जाना जाता है और यह भारतीय भोजन में अपना एक अलग ही स्थान रखता है। इसके प्रयोग से भोजन की सुगंध के साथ ही इसका स्वाद भी बढ़ जाता है।

भोजन के साथ ही करी पत्ते का प्रयोग हर्बल एवं आयुर्वेदिक दवाओं में भी होता है। करी पत्ते में व्यापक रूप से फाइबर, विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, कैल्शियम, प्रोटीन, एमिनो एसिड, फॉस्फोरस,  और आयरन पाया जाता है। सबसे अधिक स्वास्थ्य लाभ करी पत्ते में पाये जाने वाले एल्कोलोइड के कारण होता है।

इसमें पाये जाने वाले औषधीय गुण हमारे स्वास्थ्य को सही करने में मदद करते हैं। इससे प्रयोग से शरीर, बालों एवं त्वचा को पोषण मिलता है। जिससे शरीर के भीतर के अंगों के साथ ही आपकी त्वचा सुन्दर और चमकली बनती है साथ ही आपके बाल भी स्वस्थ्य और मजबूत होते हैं। आगे लेख में हम आपको करी पत्ते से होने वाले लाभों के बारे में बताने जा रहे हैं।

करी पत्ता खाने के फायदे — kari patta ke fayde

करी पत्ता खाने के हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत से फायदे हैं जो हम आपकेा आगे बताने  जा रहे हैं —

1- लिवर के लिए करी पत्ते के फायदे —

लीवर को नुकसान पहुंचने के कई कारण हो सकते हैं उनमें से है ​कुछ मुख्य कारण है शराब का अधिक मात्रा सेवन करना, मसालेदार खाना खाना जैसे मीट, चिकन और मछली, तला—भुना अधिक मात्रा में खाना आदि। इन सभी चीजों से लिवर को क्षति पहुंच सकती है। यदि आपको अपने लीवर को इस क्षति से बचना है तो आपको करी पत्ते का सेवन करना चाहिए।

एक रिसर्च के अनुसार करी पत्ते को यदि आप अपने भोजन में शामिल करते हैं तो आपका लिवर किसी भी प्रकार के ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस से बचा रहता है। इसके अतिरिक्त यह लिवर के अंदर पैदा होने वाले जहरीले पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करता है। करी पत्ते में पाये जाने वाले विटामिन ए और सी मिलकर लीवर को किसी भी क्षति से बचाने में मदद करते है और उसे सही प्रकार से काम करने के लिए तैयार करते हैं।

2- एनीमिया में करी पत्ते के फायदे —

यदि आपको एनीमिया का रोग है या आपकेा खून की कमी की परेशानी है तो आपके लिए करी पत्ता फायदेमंद हो सकता है। करी पत्ते में पाये जाने वाले आयरन और फॉलिक एसिड एनमिया के रोग से लड़ने में मदद करता है। क्योंकि एनीमिया केवल शरीर में खून की कमी ही नहीं करता बल्कि इसके कारण शरीर में खून का सही प्रकार से अवशोषित भी नहीं हो पाता है।

वहीं फाॅलिक एसिड रक्त को अवशोषित करने में मदद करता है। और आयरन खून की कमी को दूर करने में सहायता करता है। यदि आपको या आपके परिवार में किसी को एनीमिया है तो आपको प्रतिदिन करी पत्ते का सेवन करना चाहिए। यदि आप प्रतिदिन इसका सेवन करते हैं तो आपके शरीर में खून की कमी की समस्या खत्म हो जायेगी।

3- दिल की बीमारी में करी पत्ते के लाभ —

हृदय से जुड़े रोगों के लिए करी पत्ता बहुत ही लाभकारी होता है। इसके अंदर ऐसे पदार्थ पाये जाते हैं जो  बैड कोलेस्टेरोल को शरीर से बाहर निकालकर गुड कोलेस्टेरोल के स्तर को बनाये रखता है। एक रिसर्च के अनुसार पता चला है कि करी पत्ताें में पाये जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट्स रक्तचाप को नियंत्रित रखने में मदद करता है। जिससे आप दिल की ​बीमारी से बचे रहते हैं।

4- डायबिटीज में करी पत्ते के फायदे — 

यदि आपको डायबिटीज या ब्लड शुगर का रोग है तो आपको इसको नियंत्रित रखने के लिए करी पत्ते का सेवन करना चाहिए। एक रिसर्च में यह पता चला है कि यदि आप नियमित करी पत्ते का सेवन करते हैं तो  आपके रक्त में शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है और आपका शरीर इंसुलिन का उत्पादन सही प्रकार से करता है। ऐसा होन से आप डायबिटीज़ के रोग से बच सकते हैं। करी पत्ते में पाया जाने वाला फाइबर शुगर को कंट्रोल करने के लिए फायदेमंद होता है।

5- कफ को दूर करने में करी पत्ते के लाभ —

अगर आपको सर्दी-जुकाम अक्सर हो जाता है या फिर आपकी छाती में कफ जमा हो जाता है तो इस समस्या के लिए आपको अपने भोजन में करी पत्ते को शामिल करना चाहिए। करी पत्ता नाक और छाती के कंजेशन को सही करने का एक बेहतरीन घरेलू उपाय है। करी पत्ते में प्रचूर मात्रा में विटामिन सी और ए पाया जाता है जो छाती और गले में जमा कफ को बाहर निकालने में मदद करता है। आप यदि करी पत्ते का नियमित सेवन करते हैं तो आप सर्दी और जुकाम से बच सकता है।

6- पाचन तंत्र के लिए करी पत्ते के लाभ —

यदि आपका पेट अक्सर खराब रहता है और आपका सही प्रकार से भोजन पचता नहीं पाता है, तो आपको अपने भोजन में करी पत्ते को जरूर शामिल करना चाहिए। आयुर्वेद विज्ञान में ऐसा माना जाता है कि करी पत्ते में पाये जाने वाले तत्व खाद्य पदार्थ को मुलायम कर उसे पचाने में सहायक होता है। जब आप करी पत्ते को अपने भोजन में शामिल करते हैं तो इससे आपका पाचन तंत्र सही हो जाता है।

7 – बालों की मजबूती के लिए करी पत्ते के लाभ —

बालो की मजबूती के लिए करी पत्ता बहुत ही लाभदायक है। यदि आपके बाल रूखे हैं और टूटते हैं या फिर उनमें डैंड्रफ की परेशानी है और बाल सफेद  हो गये हैं तो आपको इन समस्याओं के उपचार के लिए आपको करी पत्ते प्रयोग करना चाहिए। इसके प्रयोग से आपके बालों से जुड़ी सभी समस्यायें ठीक हो जाती है।

8 – त्वचा के लिए करी पत्ते के फायदे —

करी पत्ते में पाये जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट, एंटी फंगल एवं एंटी बैक्टीरियल तत्व त्वचा से संबंधी सभी प्रकर के संक्रमणों में जैसे फंगल इंफेक्शन के उपचार में मदद करता है।

करी पत्ते से होने वाले नुकसान —

  • वैसे तो करी पत्ते के कोई साइड इफेक्ट नहीं होते हैं। किन्तु इसकी अधिक मात्रा का सेवन करना आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है।
  • यदि आपको इसमें पाये जाने तत्वों से एलर्जी है तो तो आपके इसका प्रयोग बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं करना चाहिए।
  • यदि आप करी पत्ते के तेल का प्रयोग करते हैं तो इससे आपके बाल झड़ सकते हैंं। अगर ऐसा हो तो आप इसका प्रयोग बन्द कर दें।
  • गर्भवती महिलाओं को इसके प्रयोग से पहले डॉक्टर से सलाह कर लेनी चाहिए मगर इसके प्रयोग से नुकसान की कोई पुष्टि नहीं है। फिर भी सावधानी को देखते हुये अपने डॉक्टर से पूछ लेना चाहिए।
  • यदि महिला बच्चे स्तनपान करा रही हैं तो इसके प्रयोग से डॉक्टर से सलाह कर लें।

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap