Kamal Kakdi in Hindi | कमल ककड़ी के फायदे और नुकसान

Kamal Kakdi (Lotus Root) Benefits And Side Effects in Hindi — कमल ककड़ी से ही पता चलता है कि यह क्या है। कमल भारत का राष्ट्रीय पुष्प है यह तो सभी जानते ही हैं और यह दिखने में बहुत ही मनमोह होता है। मगर हम यहां कमल के फूल की बात नहीं कर रहे हैं बल्कि उसकी जड़ी की बात कर रहे हैं। कमल की जड़ को ही कमल ककड़ी (Kamal Kakdi) कहा जाता है।

जिस प्रकार कमल के फूल को पवित्रता और खुबशुरती का प्रतीक माना जाता ही उसी प्रकार कमल ककड़ी अर्थात कमल के फूल की जड़ में जाये जाने वाले पोषक तत्व हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। हम इस लेख में आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे। इसमें आप जानेंगे कमल ककड़ी क्या है,  कमल ककड़ी के फायदे, कमल ककड़ी से होने वाले नुकसान। तो आइये शुरू करते हैं इस लेख को — Kamal Kakdi — कमल ककड़ी के फायदे और नुकसान

Table of Contents

कमल ककड़ी क्या है — What is lotus cucumber

कमल ककड़ी को लोटस रूट (Lotus Root) कहा जाता है। यह कमल के फूल की जड़ होती है। कमल का फूल कई हजार सालों से एशिया में उगाया जाता है। कमल की जड़़ अर्थात कमल ककड़ी नीलम्बोनेसी (Nelumbonaceae) परिवार से जुड़ा एक एक जलीय पौधा है और यह पूरे साल पाया जाता है। कमल का पौधा झील, नदी, तालाब आदि में उगाया जाता है।

इसका फूल और पत्ते पानी से बाहर रहते हैं जबकि इसकी जड़ पानी के अंदर पाई जाती है। कमल ककड़ी अर्थात कमल की जड़ पानी में 3 से 4 फीट अंदर तक पाई जाती है। इन जड़ों को पानी से निकाल कर धोया एवं साफ किया जाता है फिर उसे काट कर तैयार कर बाजार में बेच दिया जाता है। यह आपको बाजार में आसानी से मिल जायेगा। इसको बाजार में कमल ककड़ी, कमल की जड़ और लोटस रूट के नाम से जाना जाता है।

कमल की जड़ का प्रयोग एशियाई व्यंजनों में सब्जी के रूप में होता है। इसका स्वाद मीठा और नारिकय की तरह होता है। इसके साथ ही अपने औषधिय गुणों के कारण इसका प्रयोग दवाओं में भी किया जाता है।  किया जाता है। यह बाजार में आसानी से मिल जाती है।

कमल ककड़ी के पोषक तत्व — Nutrients of lotus cucumber

कमल ककड़ी में विटामिन बी 6, विटामिन सी, प्रोटीन, खनिज तत्व, आयरन, तांबा, पोटेशियम, फास्फोरस, मैंगनीज, जस्ता, पैटोफेनीक एसिड, थियामिन के अलावा उच्च मात्रा में फाइबर पाया जाता है साथ ही इसमें थियामिन, पैंटोफेनीक एसिड, जस्ता के अलावा भी बहुत से खनिज तत्व पाये जाते हैं।

कमल ककड़ी के फायदे — Benefits of lotus cucumber

1. मधुमेह में कमल ककड़ी के फायदे —

यदि आप मधुमेह की बिमारी से परेशान हैं तो आपके लिए कमल ककड़ी बहुत ही फायदेमंद है क्योंकि इसमें पाया जाने वाला उच्च फाइबर शरीर में कार्बोहाइड्रेट के पाचन को कम कर देता है। इस तरह से शरीर की चीनी के अवशोषण की गति धीमी हो जाती है। इसी कारण से कमल ककड़ी को मधुमेह के लिए अच्छा माना जाता है। एक शोध के अनुसार इसमें पाये जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण डायबिटीज के उपचार में बहुत ही लाभकारी हो सकता है।

2. पाचन में कमल ककड़ी के लाभ —

यदि आपको पाचन से जुड़ी परेशानी है तो आपको कमल ककड़ी का प्रयेाग अवश्य करना चाहिए। कमल ककड़ी में उच्च मात्रा में फाइबर पाया जाता है भोजन को पचाने में मदद करने के साथ ही आपको मल त्याग में मदद करता है। कमल ककड़ी आपकी पाचन शक्ति को मजबूत करते हैं इसके साथ ही यह आपकी कब्ज की समस्या को भी दूर करने में मदद करता है।

3. एनिमिया में कमल ककड़ी के फायदे —

यदि आप एनिमिया अर्थात रक्त की कमी से परेशान हैं तो आपके लिए कमल ककड़ी फायदेमंद हो सकती है। रक्त के उत्पादान में यह फायदेमंद हो सकती है। रक्त के उत्पादन के लिए आयरन अर्थात लौह तत्व की आवश्यकता होती है जो कमल ककड़ी में प्रचूर मात्रा में पाई जाती है। इसके साथ ही इसमें तांबा भी पाया जाता है जो लाल रक्त कोशिकाओं के स्तर को बढ़ाने का कार्य करता है जिससे शरीर में रक्त की कमी पूरी हो जाती है।

4. हृदय के लिए कमल ककड़ी के लाभ —

हृदय रोगों के लिए कमल ककड़ी बहुत ही फायदेमंद होती है। इसमें पोटेशियम की प्रचूर मात्रा होती है जो  हमारे शरीर में तरला का संतुलन बनाने में मदद करता है। पोटेशियम रक्त वाहिकाओं को आराम की स्थिति में रखता है और इसकी कठोरता और संकुचन को कम करता है जिससे हृदय में रक्त के प्रवाह में वृद्धि हो जाती है। जिस कारण परिसंचरण तंत्र में तनाव कम होता है। जिससे हमारा हृदय स्वस्थ्य बना रहता है और ब्लड प्रेसर का खतरा कम हो जाता है।

5. कोलेस्ट्रॉल में कमल ककड़ी के फायदे —

कमल ककड़ी में पाया जाने वाला डाइटरी फाइबर कोलेस्ट्रॉल को कम करने में सहायक होता है। वहीं इसमें पाया जाने वाला पोटेशियम रक्त वाहिकाओं को चौड़ा एवं रक्त संचरण के उपयुक्त बनाये रखने में मदद करता है। इसके अ​तिरिक्त इसमें पाया जाने वाला पाइरोडॉक्सिन तत्व खून में होमोसिस्टीन की मात्रा को नियंत्रित करने में मदद करता है। होमोसिस्टीन हृदय आघात का कारण बनता है। इसके नियंत्रित होने से हार्ट अटैक का खतरा कम हो जाता है।

6. त्वचा के लिए कमल ककड़ी के फायदे —

कमल ककड़ी में एंटीऑक्सिडेंट के गुण पाये जाते हैं जो त्वचा के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। यदि आप कमल ककड़ी का प्रयोग करते हैं तो इससे आपकी त्वचा मॉइस्चराइज और हाइड्रेटेड बनी रहती है। जिस कारण आपकी त्वचा चमकदार, खुबशुरूरत और मुलायम होने के साथ आपकी झुर्रियों को कम करता है। कमल ककड़ी के लेप बनाकर आप अपनी तेलीय त्वचा से मुक्ति पा सकते हैं। यह आपकी त्वचा में होने वाले मुँहासों को भी होने से रोकता है।

7. वजन कम करने में लोटस रूट (Lotus Root) के फायदे —

आज कल सभी लोग बढ़ते वजन से परेशान हैं यदि आप भी वजन के बढ़ने से परेशान हैं तो आपके लिए कमल ककड़ी फायदेमंद हो सकती है। इसमें फाइबर की उच्च मात्रा के साथ ही पोषक तत्व पाये जाते हैं जो वजन को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। इसको प्रतिदिन सेवन करने से आपके शरीर को बहुत कम कैलोरी प्राप्त होती है मगर इसमें पाये जाने वाले पोषक तत्व और फाइबर देर तक हमारे पेट को भरा हुआ महसूस कराते हैं। ऐसा होने से हमें बार—बार खाने की जरूरत महसूस नहीं होती है। और हमारा वजन नियंत्रण में रहता है।

8. रोग प्रतिरोध क्षमता के लिए कमल ककड़ी के लाभ —

रोग प्रतिरोध क्षमता का कमजोर होना आपके लिए खतरनाक हो सकता है इससे आपको बिमारियों के लगने का अधिक खतरा रहता है। कमल ककड़ी में विटामिन सी और एंटीऑक्सिडेंट प्रचूर मात्रा में पाया जाता है जो  शरीर की रोग प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करते हैं। अगर आपकी रोग प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होगी तो आप कई प्रकार के रोगों से बचे रहते हैं। इस लिए आपको अपने भोजन में कमल ककड़ी को जरूर शामिल करना चाहिए।

9. कैंसर में कमल ककड़ी के फायदे —

कैंसर में भी कमल ककड़ी लाभदायक हो सकती है। इसमें पाये जाने वाले एंटी कैंसर गुण आपके शरीर में कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोक देता है जिससे आप कैंसर से बच सकते हैं। आप कैंसर से बचने के लिए कमल ककड़ी का प्रयोग कर सकते हैं। मगर ध्यान रहे यह कोई पूर्ण उपचार नहीं है अत: आप डॉक्टरी उपचार के ​साथ इसका प्रयोग कर सकते हैं।

कमल ककड़ी को खाने का तरीका — How to eat lotus cucumber

आप कमल ककड़ी अर्थात कमल की जड़ का प्रयोग छोटे—छोटे टुकड़े कर मसालों के साथ सब्जी बनाकर प्रयोग कर सकते हैं। या फिर आप इसको अचार, सलाद, कोफ्ते के अलावा इसका रायता भी बनाकर प्रयोग कर सकते हैं। यह खाने में बहुत स्वादिष्ट होने के साथ ही पोषक तत्वों से भरपूर होती है जो हमारे शरीर की आवश्यकताओं को पूरा करती है।

कमल ककड़ी के नुकसान — Side Effectof lotus cucumber

वैसे तो कमल ककड़ी के कोई भी नुकसान नहीं होते हैं फिर भी आपको इससे जुड़ी कुछ सावधानियां आपको बनाने जा रहे हैं जिससे आपको इसे प्रयोग से नुकसान न हो —

  • यदि आप कमल ककड़ी अधिक मात्रा में सेवन करते हैं तो आपको पेट में दर्द के साथ दस्त हो सकते हैं।
  • यदि आपको किसी प्रकार की एलर्जी है या फिर आपको कमल ककड़ी में पाये जाने वाले तत्वों से एलर्जी है तो आपको इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए इससे आपको नुकसान हो सकता है।
  • यदि आप किसी बिमारी की दवा का प्रयोग कर रहे हैं तो आपको इसके प्रयोग से पहले अपने डॉक्टर से पूछना चाहिए।
  • यदि आप कमल ककड़ी या ​कमल की जड़ को कच्चा ही खा रहे हैं तो यह आपको नुकसान पहुंचा सकती है। कच्चे खाने से आपको बैक्टीरिया का संक्रमण हो सकता है अत: आपको इसके प्रयोग से पहले इसे अच्छी तरह पका या उबाल लेना चाहिए।

दोस्तों हमने इस लेख ” Kamal Kakdi — कमल ककड़ी के फायदे और नुकसान ” में आपको कमल ककड़ी के बारे में पूरी जानकारी दी है इससे होने वाले फायदों को जानकार आप इसको अपने दैनिक भोजन में प्रयोग अवश्य करेंगे। यदि आपको यह लेख अच्छा लगा तो इसको अपने दोस्तों के साथ शेयर अवश्य करें।

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap