Jimikand in Hindi | जिमीकंद के फायदे

जिमीकंद एक वो सब्जी है जिसके बारे में शायद ही आपको पता होगा। यह बाजार में मिलने वाली आम सब्जीयों की तरह ही है। जिमीकंद एक प्रकार का कंद—मूल है जो उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में मिलती है। यह दिखने में हाथी के पैरों के समान होते हैं ​इसकी कारण से इन्हें जिमीकंद कहा जाता है।

इसका प्रयोग सबसे ज्यादा अफ्रीकी देशों में किया जाता है किन्तु इसके अलावा यह भारत में भी प्रयोग कि जाती है। इसमें पाये जाने वाले पोषक तत्व एवं खनिज हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होते हैं। इसमें प्रोटीन बड़ी मात्रा में पाया जाता है इसके अलावा तांबा, फास्फोरस, जस्ता, पोटेशियम और मैग्नीशियम भी प्रचूर मात्रा में पाया जाता है।

जिमीकंद में एक बहुत बड़ी मात्रा ओमेगा 3 फैटी एसिड की भी होती है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है।

Table of Contents

जिमीकंद क्या है – What is Jimikand

जिमीकंद सब्जी के रूप में खाये जाने वाली एक जड़ है। जिसको सूरन भी कहा जाता है। स्वास्थ्य में इसके लाभों के कारण इसे एक प्राकृतिक जड़ी-बूटी भी माना गया है। जिमीकंद का वैज्ञानिक नाम अमोरफोफ्लस पाओनीफोलिअस है और इसे अंग्रेजी में (याम) के नाम जाते हैं।

यह हाथी के पैर के समान दिखाई देता है इसी कारण से इसे एलिफेंट फुट याम के नाम से भी जाना जाता है। जिमीकंद एक कंद है और यह जंगलों में अपने आप ही उग जाते हैं। परन्तु इसके फायदों को के बारे में जानने के बाद कुछ समय पूर्व इसकी खेती भी की जाने लगी है।

जिमीकंद के प्रकार – Types of Jimikand

जिमीकंद अर्थात सूरन कई प्रकार के होते हैं। इस लेख में हम उनके बारे में बताने जा रहे हैं जो आसानी से बाजार से प्राप्त किये जा सकते हैं।

  • वाइल्ड याम – इसे जंगली याम अर्थात जंगली जिमीकंद कहा जाता है यह दिखने में पतले आकार का होता है।
  • पर्पल याम – बाहर से दिखने में यह अन्य जिमीकंद के समान ही भूर रंग का होता है परन्तु अंदर से इसका रंग बैगनी होता है इसकी कारण से पर्पल जिमीकंद कहा जाता है। 
  • यल्लो याम – यल्लो जिमीकंद का रंग अंदर से पीला होता है। इसके पीले होने का कारण इसमें पाया जाना वाला कैरोटीनॉयड है। यह जिमीकंद ठोस और इसकी बाहर की त्वचा में हल्के उभार पाये जाते हैं।
  • व्हाइट याम – यह जिमीकंद सबसे आम होता है। अन्दर से इसका रंग सफेद दूध के समान होता है। इसकी कारण से इसे व्हाइट याम कहा जाता है।
  • चाइनीज याम – यह खाने में बहुत ही स्वादिष्ट समझा जाता है और इसका प्रयोग सबसे अधिक होता है।

जिमीकंद के पौष्टिक तत्व – Nutritional Value of Jimikand in Hindi

जिमीकंद में बहुत सारे पोषक तत्व और खनिज पाये जाते हैं नीचे एक टेबल में हम आपको कुछ के बारे में बताने जा रहे हैं। टेबल में 100 ग्राम जीमीकंद मी मात्रा के अनुसार पोषक तत्वों व खनिजों की मात्रा को दर्शाया गया है।

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
फैटी एसिड0.037g
ऊर्जा118 kcal
जल 69.5 g
शुगर0.50 g
प्रोटीन1.54 g
वसा0.17 g
कार्बोहाइड्रेट27.88 g
फाइबर4.1 g
आयरन0.54 mg
कैल्शियम17 mg
फास्फोरस55 mg
पोटेशियम816 mg
मैग्नीशियम21 mg
सोडियम9 mg
जिंक0.24 mg
विटामिन-सी17.1 mg
विटामिन बी-60.293 mg
विटामिन ए7 μg
विटामिन ई0.35 mg
विटामिन के2.3μg

                   

जिमीकंद के फायदे – Benefits Jimikand in Hindi

1. डायबिटीज में जिमीकंद के फायदे —

जिमीकंद (Jimikand) में प्राकृतिक रूप से एलेंटॉइन (Allantoin) नामक तत्व पाया जाता है जो एंटी डायबिटिक  गुण से युक्त होता है। इस कारण से यह डायबिटीज से ग्रस्त लोगों के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। जिमीकंद में प्रचूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स की श्रेणी में आता है अर्थात यह शरीर में शुगर की मात्रा को कम पहुंचाना है। इसी कारण से यह डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद है। उन्हें इसे अपने दैनिक आहार में जरूर शामिल करना चाहिए। (Jimikand in hindi)

2. वजन कम करने के लिए जि​मीकंद के फायदे —

जिमीकंद अर्थात सूरन का प्रयोग वजन घटाने के लिए भी कर सकते हैं। जिमीकंद में फ्लेवोनॉयड कंपाउंड होने के से इसमें एंटी-ओबेसिटी गुण प्रभाव पाया जाता है जो बढ़ते वजन, मोटापेे और  फैट को कम करने में मदद कर सकता है। इसके अतिरक्ति जिमीकंद में फाइबर व कार्बोहाइड्रेट की प्रचूर मात्रा भी पाई जाती है जो इसे खाने के बाद लम्बे अंतराल तक भूख नहीं लगने देता है। अधिक न खा पाने के कारण वजन घटाने में यह मदद कर सकात है।

3. खून की कमी अर्थात ए​नीमिय में सूरन के फायदे —

शरीर में खून की कमी होना या एनीमिया होने का अर्थ है कि शरीर में आयरन और फोलेट की कमी हो गई है। यहां आपके लिए जिमीकंद फायदेमंद हो सकता है। जिमीकंद में आयरन अलावा प्रचूर मात्रा में फोलेट पाया जाता है। इसके प्रयोग से आपके शरीर में आयरन और फोलेट की कमी पूरी हो सकती है और आपको खून की कमी से भी निजात मिल सकती है। Benefits of Jimikand

4. पाचन में जिमीकंद (Jimikand) के लाभ —  

जिमीकंद में प्रचूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो पाचन से जुड़ी समस्याओं के लिए फायदेमंद  होता है। सूरन में पाया जाना वाला फाइबर खाद्यपदार्थ के पाचन में सहायता तो करना ही है साथ ही यह मल को सही प्रकार से निकालने में भी मदद करता है। इससे कब्ज जैसी समस्या होने का खतरना भी कम हो जाता है।

5. कैंसर में जिमीकंद के फायदे —

कैंसर से बचाव के लिए जिमीकंद का प्रयोग फायदेमंद हो सकता है। एक रिचर्स के अनुसार जिमीकंद में एलेंटॉइन कंपाउंड पाया जाता है जो कैंसर से बचाव करने में सहायता कर सकता है।  इसके अतिरिक्त जिमीकंद में पाया जाना वाला एल-अर्जिनिन (L-arginine) तत्व शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का कार्य करता है जिससे कैंसर को रोकने में मदद मिलती है। यह ध्यान देेना होगा की यह कोई कैंसर का इलाज नहीं है यह सिर्फ उससे बचाव के लिए है। इलाज के लिए आपकेा किसी अच्छे डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए।

6. शरीर की प्रतिरोधक क्षमता के लिए फायदेमंद —

जिमीकंद अर्थात सूरन में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाये जाते हैं जो हमें रोगों से लड़ने में मदद करते हैं। एक शोध के अनुसार जिमीकंद में पाये जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण शरीर की रक्षा प्रणाली को मजबूत करते हैं और इंफ्लेमेशन प्रक्रिया को नियंत्रित कर कोलन कैंसर से बचाव में मदद करता है।

7. सूरन (Jimikand) में विटामिन-बी6 पाये जाने के

फायदे —

विटामिन-बी6 हमारे लिए एक जरूरी पोषक तत्व है। जो चिड़चिड़ेपन और चिंता जैसी परेशानियों को कम करने में मदद करता है। इसलिए शरीर में विटामिन- बी6 की पूर्ति बेहत जरूरी होती है। इसके अन्य पोषक तत्वों के साथ आपको जिमीकंद का भी प्रयोग करना चाहिए क्योंकि इसमें प्राकृतिक रूप से विटामिन बी6 प्रचूर मात्रा में पाया जाता है जो आपके शरीर में विटामिन बी6 की कमी को पूरा करने में मदद कर सकता है।

8. त्वचा के लिए जिमीकंद के फायदे —

जिमीकंद में विटामिन-ए और नियासिन (विटामिन-बी का ही एक रूप) पाये जाते हैं। ये दोनों पोषक तत्व हमारी त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए बहुत महत्वूर्ण हैं। इसलिए अगर आपको अपनी त्वचा को स्वस्थ्य और सुन्दर बनाना है तो आपको जीमीकंद का प्रयोग करना चाहिए। (Jimikand in hindi)

9. बालों के लिए जिमीकंद के फायदे

सूरन सेवन करना बालों के लिए फायदेमंद हो सकता है, क्योंकि इसमें विटामिन-बी6 की प्रचूर मात्रा पाई जाती है। एक शोध के अनुसार विटामिन-बी6 बालों को स्वस्थ्य बनाने में मदद कर सकता है। इसके ​अलावा बाल झड़ने की समस्या को भी कम कर सकता है।

10. गठिया दूर करने में जिमीकंद के लाभ —

जिमीकंद में शरीर की सूजन को कम करने का गुण पाया जाता है जो गठिया में आने वाली सूजन को कम करने में सहायता कर सकता है। इसके अलावा इसमें दर्द को कम करने वाले गुण भी पाये जाते हैं जो गठिया व अन्य दर्द को कम करने में सहायक सिद्ध होता है।

11. बवासीर में जिमीकंद—

इस सब्जी का प्रयोग उन लोगों को अक्सर खाने को कहा जाता है जो बवासीर के रोग से ग्रसित होते हैं क्यों कि इसमें प्रचूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। जिससे अनियमित आंतों के कार्य को ठीक करने में मदद मिलती है और कब्ज से भी राहत रहती है।

12. तनाव में जिमीकंद के फायदे —

जिमीकंद (Jimikand) में पाये जाने वाले तंत्रिका तंत्र को आराम पहुंचाने वाले तत्व डायजेपाम (diazepam) की तरह होते हैं। यह तनाव के लिए एक अच्छी दवा है। इसका प्रयोग करने से शरीर को आराम व ठंडा करने में सहायता मिलीती है।

13. जिमीकंद के अन्य फायदे –

  • जिमीकंद में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है जो बढ़ती उम्र को धीमा कर सकता है। इसके अलावा यह   कैंसर को रोकने में भी मदद कर सकता है।
  • महिलाएं इसका सेवन कर सकती हैं इससे उनका हार्मोनल संतुलन ठीक रहता है।
  • सूरन निम्न रक्तचाप अर्थात लो ब्लड प्रेसर को नियंत्रित करने में मदद करता है।
  • जिमीकंद दस्त, पेट में दर्द और गैस की समस्या में सहायता पहुंचा सकता है।
  • जिमीकंद खाने से मांसपेशियों में होने वाली ऐंठन को मुक्ति मिल सकती है। ।

जिमीकंद का उपयोग – How to Use Jimikand

जिमीकंद का उपयोग कई प्रकार से किया जा सकता है। इसके कुछ आसान तरीके बताने जा रहे हैं।

  • जिमीकंद की सब्जी बनाकर प्रयोग किया जा सकता है।
  • जिमीकंद के पकौड़े बनाये जा सकता हैं इसके लिए आपको इसे उबाल कर कद्दूकस करना चाहिए। फिर इसके पकौड़े बनाने चाहिए।
  • जिमीकंद का प्रयोग आप चटनी बनाकर भी कर सकते हैं।
  • जिमीकंद का अचार भी बनाया जा सकता है।
  • जिकीमंंद को फ्राइ करके स्नैक के रूप में भी खाया जा सकता है।
  • जिकीमंद अर्थात् सूरन को किसी भी समय सुबह, शाम या रात को खाया जा सकता है।
  • जिकीमंद को पाउडर के रूप में भी ले सकते हैं मगर ध्यान रहे इसकी 50 ग्राम मात्रा को ही सुरक्षित माना गया है। फिर भी अलग—अलग व्यक्ति् व उम्र में इसकी मात्रा कम या ज्यादा हो सकती है। इसके लिए आपकेा किसी विशेषज्ञ की सलाह लेनी चाहिए।

जिमीकंद कहां से प्राप्त करें?

जिमीकंद या सूरन को आप आसानी से सब्जी मंडी से खरीद सकते हैं। यह बाजार में सितंबर से नवंबर माह के बीच आसानी से मिल जाता है। इसके अतिरिक्त्इ आप ऑनलाइन वेबसाइट अमेजन, फ्लीपकार्ट से भी खरीद सकते हैं।

जिमीकंद के नुकसान – Side Effects of Jimikand

किसी भी चीज के अगर फायदे हैं तो नुकसान भी होंगे उसकी प्रकार जिमीकंद के भी कुछ नुकसान हो सकते हैं। जिमीकंद की अधिक मात्रा में खाने से नुकसान हो सकते हैं।

  • अगर आपको एलर्जी की शिकायत रहती है तो आपको जिमीकंद खाने से शरीर में एलर्जी हो सकती है।
  • अधिक मात्रा में सूरन का प्रयोग करने से उल्टी हो सकती है।
  • प्रेगनेंसी में इसका सेवन से बचना चाहिए क्योंकि इसके बारे में अभी पूरी जानकारी नहीं है कि गर्भअवस्था में इसका प्रयोग करना सुरक्षित है या नहीं।
  • अगर आपको किसी यौन समस्या है तो आपको जिमीकंद का प्रयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि यह एस्ट्रोजन (यौन विकास में प्रयुक्त होने वाला एक हार्मोन) की तरह कार्य कर सकता है।
  • इसका अधिक प्रयोग आपके शरीर में रक्त के थक्के बना सकता है।
  • अगर आपको प्रोटीन से होने वाली समस्या है तो आपको इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए।

इस लेख में उपर दिये गये फायदों व नुकसान से आप समझ गये होंगे की जिमीकंद के नुकसान सिर्फ इसके अधिक सेवन व इससे होने वाली एलर्जी के कारण ही हैं। मगर इससे होने वाले फायदे बहुत ज्यादा हैं। आप जिसको एक मात्र कंद समझ रहे हो वह हमारी अच्छी सेहत के लिए बहुत उपयोगी हो सकता है। आपको इसका प्रयोग अवश्य करना चाहिए।

हमारा यह लेख आपको कैसा लगा इसके बारे में जरूर लिखें अगर आपकेा पसंद आया तो इसको शेयर करना न भूले।

Leave a Comment

Copy link
Powered by Social Snap