Jamun Ke Fayde | जामुन के फायदे और नुकसान

Jamun Ke Fayde — जामुन एक मौसमी फल है, यह खाने में स्वादिष्ट तो होता ही है साथ ही इसमें बहुत से औषधीय गुण भी पाये जाते हैं। इसकी कारण से जामुन को आयुर्वेद विज्ञान में एक महत्वपूर्ण हर्ब माना जाता है। जामुन का वैज्ञानिक नाम सिजिगियम क्युमिनी (Syzigium cumini) एवं मिरटस क्युमिनी (Myrtus cumini) होता है। यह जंबुल के रूप में भी जाना जाता है।

गर्मी के मौसम में आपको जामुन आसानी से बाजार मिल जाता है। जामुन में पाये जाने वाले बहुत से औषधिय गुणों के अलावा यह गर्मी के मौसम में लू लगाने पर भी फायदेमंद होता है। इसके अलावा जामुन के में पाया जाने वाला विटामिन बी और आयरन प्रचूर मात्रा में मिलता हे। जो कई बिमारियों के अलावा कैंसर एवं मुंह के छालों में आराम पहुंचाता है।

इसके अतिरिक्त जामुन में ग्लूकोज एवं फ्रुक्टोज प्रचूर मात्रा में पाये जाते है जो आपके शरीर के बहुत ही फायदेमंद होता हे। जामुन में वह सभी तत्व पाये जाते हैं जो हमारे शरीर को रोगमुक्त रखने में मदद मिलती है।

जामुन क्या है? — What is Jamun ?

जामुन (black berry) खाने में बहुत ही स्वादिष्ट होता है। यह देखने में काले रंग का छोटे आकार का होता है। आपको जामुन गर्मी के मौसम में आसानी से मिल जायेगा। जामुन के फल के साथ ही इसके बीज, पत्तों और छाल का प्रयोग भी आयुर्वेद में दवा के रूप में होता है। कई बिमारियों के साथ ही मधुमेह के रोगी के उपचार में जामुन के बीजों का विशेष प्रायोग किया जाता है।

इसके तने की छाल से शारीरिक शक्ति को बढ़ाने की दवा बनाई जाती है। इसके साथ ही यह गठिया के उपचार में भी सहायक होता है। मुख्य रूप से जामुन के पांच प्रकार पाये जाते हैं जो बहुत ही फायदेमंद होते हैं। यह गठिया, दस्त, पेट के कीड़ों, खून से सम्बन्धित बिमारी, कफ एवं पित्त दोष, हृदय रोग एवं शारीरिक कमजोरी, सेक्सुअल कमजोरी को दूर करने में फायदेमंद होते हैं। आगे लेख में हम जामुन के फायदों के बारे में बात करेंगे।

जामुन के फायदे – Benefits of Jamun In Hindi

जामुन का फल ही नहीं उसके पत्ते, जड़, तना के साथ ही इसकी गुठली भी बहुत ही उपयोगी होती है। आगे हम इससे होने वाले फायदों के बारे में जानेंगे —

1 . मधुमेह में जामुन के फायदे —

यदि आप शुगर के मरीज हैं तो आप जामुन के फल को आसानी से खा सकते हैं यह आपको कोई नुकसान नहीं पहुंचाता है। जामुन में पाये जाने वाले तत्व शरीर में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। यदि आप जामुन का नियमित सेवन करते हैं तो आपको मधुमेह की बिमारी में फायदा होगा। डायबिटीज के रोगी को होने वाली दिक्कते जैसे बार-बार पेशाब लगना और प्यास लगने की समस्या में फायदा होता है।  इतना ही नहीं जामुन की गुठली भी मधुमेह के उपचार में सहायक होती है। यदि आप जामुन की गुठली को सुखा एवं पीस कर इसका चूर्ण बना लेते हैं और प्रतिदिन सुबह शाम करीब 3 ग्राम इस चूर्ण का सेवन करते हैं तो आपका मधुमेह बहुत ही कम हो सकता है।

2. एनीमिया में जामुन के लाभ —

जामुन में पाये जाने वाले पोषक तत्व जैसे आयरन, कैल्शियम, पोटेशियम और विटामिन हमारे शरीर की रोग प्रतिरोध क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं। इसके साथ साथ ही यह खून की कमी अर्थात एनिमिया के रोग में भी फायदेमंद होते हैं। यदि आपको खून की कमी का रोग है तो आपको प्रतिदिन जामुन का सेवन अवश्य करना चाहिए इससे आपको एनीमिया के रोग से मुक्ति मिल जायेगी।

3. पथीर में जामुन के फायदे —

यदि आपको या आपके परिवार में से किसी को पथरी की समस्या है तो उन्हें जामुन की गुठली के चूर्ण का प्रयोग करना चाहिए। इससे उन्हें पथरी के रोग में लाभ होगा। इसके लिए आपको जामुन की गुठली के चूर्ण को दही के साथ लेना चाहिए।

4. त्वचा निखारने में जामुन के फायदे —

जामुन रोगों में ही नहीं त्वचा को निखारने में भी यह बहुत ही फायदेमंद है। यदि आपके चेहरे में सफेद दाग की समस्या है तो यह आपके लिए बहुत ही फायदेमंद हो सकती है। इसके लिए आपको जामुन को पीसकर एक पेस्ट बना लेना चाहिए। अब इस पेस्ट को उन सफेद दागों में लगाये। ऐसा करने से यह दाग धीरे—धीरे खत्म हो जाते हैं।

5. लीवर के रोगों में जामुन के फायदे —

लीवर के रोगियों के लिए जामुन बहुत ही लाभकारी है। इसके लिए आपको जामुन के दस को रोज पीना चाहिए। यदि आप लीवर के रोगों से परेशान हैं तो आपको जामुन के जूस को प्रात: और शाम जरूर पीना चाहिए इससे आपको जीवर के रोगों में फायदा होगा और वह जल्द ठीक हो जायेंगे।

6. पेट की समस्या में जामुन के लाभ —

यदि आप पेट से जुड़ी समस्याओं से परेशान रहती है और आपका भोजन सही प्रकार से पच नहीं पाता है तो आपके लिए जामुन बहुत ही लाभकारी हो सकता है। यदि आपे पेट में ऐंठन या मरोड़ की दिक्कत है तो आपको जामुन के पेड़ की छाल का काढ़़ा बनाकर इसका सेवन करना चाहिए। इतना ही नहीं यदि आप जामुन की छाल को घिसर इसके रस का सेवन करते हैं तो यह आपके पेट खराब होने की समस्या एवं अपच में भी लाभकारी हो सकता है। धीमी पाचन क्रिया को सही करने के लिए आप अपने नाश्ते में जामुन को शामिल कर सकते हैं। इससे आपकेा लाभ होगा।

7. गठिया में जामुन के फायदे —

गठिया के रोग में जामुन बहुत ही लाभकारी होता है। जामुन की छाल को उबालकर इससे तैयार मिश्रण को घुटनों में लगाने से गठिया के रोग मतें आराम मिलता है।

8. मोतियाबिंदु के रोग में जामुन के लाभ —

आजकल मोतियाबिन्दु का रोग आम हो गया है उम्र बढ़ने के साथ ही यह रोग होने का खतरा अधिक हो गया है। इस रोग में जामुन बहुत ही लाभकारी है। इसके लिए आप जामुन के बीज का चूर्ण तैयार करनें और उसमें शहद मिला लें अब इनको गोलियों का रूप दे दें। ध्यान रहे प्रत्येक गोली का वजन करीब तीन ग्राम होना चाहिए। आप इस तैयार गोली को सुबह शाम खा सकते हैं। इससे आपको फायदा होगा।

9. पीलिया के रोग में जामुन के फायदे —

बढ़ते प्रदूषण और प्रदूषित पानी के कारण पीलिया होने का खतरा बहुत ​अधिक हो गया है। अगर आपको पीलिया हो गया है तो आप जामुन का सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आपको जामुन के करीब 15 मिली रस में 2 चम्मच शहद हो मिला लेना चाहिए। इसका प्रतिदिन सेवन करें इससे आपको पीलिया के साथ ही शरीर में हो रही खून की कमी में भी फायदा होगा।

10. बवासीर के दर्द में जामुन के लाभ —

जामुन बवासीर एवं पाइल्स के रोग में होने वाले दर्द में बहुत ही लाभकारी होता है। यदि आपको बवासीर रोग है तो आप जामुन की कोमल कोपलों का ले लें और उसके 20 मिली रस में कुछ मात्रा में चीनी को मिला लें। अब इस तैयार मिश्रण को दिन में करीब तीन बार पीने से आपके बवासीर में होने वाले दर्द एवं बहने वाले खून को रोकने में फायदा होगा।

जामुन के नुकसान – Jamun Side Effects In Hindi

वैसे तो जामुन के कोई नुकसान नहीं होते फिर भी इसके प्रयोग में कुछ सावधानी बर्ती जानी चाहिए नहीं तो आपकेा इसके प्रयोग से नुकसान हो सकता है। हम इससे होने वाले कुछ नुकसान एवं सावधानियां आपको बताने जा रहे हैं —

आपकेा जामुन का अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए यह आपको नुकसान पहुंचा सकता है।

अधिक मात्रा में जामुन खाने से आपको बुखार, सर दर्द, गले में दर्द, सीने में दर्द एवं पेट दर्द जैसी समस्या हो सकती है।

यदि आप अधिक मात्रा में जामुन का सेवन कर लेते हैं तो आपको खांसी हो सकती है।

यदि आप बच्चे को दूध पिलाती हैं तो आपको जामुन के प्रयोग से दूर रहना चाहिए।

खाली पेट जामुन को कभी भी खाना नहीं चाहिए यह आपके लिए खतरनाक हो सकता है।

यदि आप जामुन खा रहे हैं तो ध्यान दें इसके बाद आपको दूध का सेवन नहीं करना चाहिए।

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap