गुलकंद के फायदे और नुकसान | Gulkand Benefits in Hindi

गुलकंद के फायदे और नुकसान (gulakand ke phaayade aur nukasaan) — गुलकंद के बारे में सोचने ही मन में उसके मीठे और उसी सुगन्ध का एहसास होने लगता है। गुलाब की ताजा पंखुड़ियों एवं चीनी से के पाक को मिलाकर बनाया गया गुलकंद खाने में बहुत ही स्वादिष्ट होता है साथ ही इसकी खुशबू भी बहुत ही अच्छी लगती है। यह दिखने में बिल्कुल मुरब्बे की तरह होता है। यह सिर्फ खाने में ही स्वादिष्ट नहीं होता है बल्कि के औषधिय गुण हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होते हैं।

इसको कई प्रकार से खाया जाता है इसके साथ ही इसको कई आयुर्वेदिक दवाओं में भी प्रयोग किया जाता है जो कई बिमारियों में भी लाभकारी होता है। हम इस लेख में आपको गुलकंद के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश करेंगे। इसमें आप जानेंगे गुलकंद क्या है, गुलकंद के फायदे और नुकसान आदि। तो आइये शुरू करते हैं इस लेख को — Gulkand Benefits in Hindi

Table of Contents

गुलकंद क्या है? – What is Gulkand  in Hindi

गुलकंद को गुलाब की ताजा पंखुड़ियों और चीनी की चासनी को मिलाकर बनाया जाता है। इसको गुलाब की पंखुड़ियों के मुरब्बे के नाम से भी जानते हैं। इसकी तासीर ठण्डी होती है इसकी कारण से गुलकंद को अधिकतर गर्मियों के मौसम में शरीर को ठण्डक पहुंचाने के लिए किया जाता है। गुलकंद के सुगंधित और मीठे स्वाद के कारण इसको कई प्रकार के स्वादिष्ट खाद्य पदार्थो में भी प्रयोग किया जाता है। इसके साथ ही इसका प्रयोग औषधियों में भी होता है।

गुलकंद के फायदे – Benefits of Gulkand  in Hindi

गुलकंद हमारे लिए बहुत ही लाभकारी होता हे। इसके हमारे स्वास्थ्य के लिए ढेरों फायदों के साथ ही त्वचा की खुबशुरती के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है। आगे हम इससे होने वाले फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं —

1. हृदय स्वास्थ्य के लिए गुलकंद के फायदे —

गुलकंद हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकता है। इसमें मैग्नीशियम प्रचूर मात्रा में पाया जाता है। मैग्नीशियम ब्लड ग्लूकोट एवं ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसके अलावा यह हृदय को सही प्रकार से कार्य करने में सहायता करता है। गुलकंद में पाये जाने वाला मैग्नीशियम हमारे हृदय के स्वास्थ्य को सही बनाये रखने में मदद करता है। अगर आपको भी हृदय से जुड़ी समस्याओं से मुक्ति चाहिए तो आप गुलकंद का सेवन कर सकते हैं।

2. वजन घटाने में गुलकंद के लाभ —

आजकल सभी लोग बढ़ते वजन से परेशान हैं। अगर आप बढ़ते वजन से परेशान हैं तो आप गुलकंद का प्रयोग कर सकते हैं। इसमें पाये जाने वाले औषधीय गुण वजन घटाने में फायदेमंद हो सकते हैं। गुलाब की पं​खुड़ियों में फैट की मात्रा नहीं होती है। यदि आप लो—फैट वाले खाद्य पदार्थो का सेवन करते हैं तो आपका वजन कम हो सकता है। अत: गुलकंद में फैट की मात्रा नही होती है इसलिए आप गुलकंद को खा सकते हैं। इसमें पाया जाने वाला गुलुकोज आपको भूख लगने से रोकता हैं और आप ज्यादा भोजन नहीं कर पाते हैं। और अतिरिक्त भोजन न कर पाने से आपका वजन घटता है।

3. पेट के लिए गुलकंद के लाभ —

यदि आपको गैस की समस्या रहती है तो आपके लिए गुलकंद फायदेमंद हो सकता है। आयुर्वेद में गुलाब की पंखुड़ियां बहुत ही फायदेमंद मानी जाती हैं। गुलाब हमारे पांचन तंत्र के लिए भी फायदेमंद होता है। इससे प्रयोग से आपका पाचन तंत्र मजबूत होता है और आप कब्ज एवं गैस जैसी समस्याओं से बच सकते हैं। यदि आपका पाचन सही है तो आप कब्ज व गैस की समस्या के अतिरिक्त कई और बिमारियों से बच सकते हैं।

4. कब्ज की समस्या में गुलकंद के लाभ —

अगर आप कब्ज की समस्या से परेशान रहते हैं और इससे निजात पाना चाहते हैं तो आप गुलकंद का इस्तेमाल कर सकते हैं। गुलकंद आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। आपन गुलकंद में मैग्नीशियम होता है जो कब्ज की ​समस्या के लिए फायदेमंद होता है। अगर आपने कब्ज की समस्या से निजात पाना है तो आपको नियमित गुलकंद का सेवन करना चाहिए।

5. मुंह के छालों के लिए गुलकंद के लाभ —

आप कभी न कभी मुंह के छालों से परेशान जरूर रहे होंगे। क्या आपने कभी गुलकंद का प्रयोग छालों के उपचार में किया है नहीं तो करना चाहिए क्योंकि गुलकंद में विटामिनत— बी पााया जाता है जो छालों के लिए बहुत भी लाभदायक होता है।  एक शोध में पाया गया है कि विटामिन—बी छालों के उपचार के लिए फायदेमंद होता है।

6. आंखों के लिए गुलकंद के फायदे —

गुलकंद की तासिर ठण्डी होती है जो आंखों के लिए फायदेमंद हो सकती है। एक रिपोर्ट के अनुसार गुलकंद का सेवन करने से आपकी आंखों में होने वाला लालपन एवं उसमे आने वाली सूजन से मुक्ति पा सकते हैं।

7. त्वचा के लिए गुलकंद के फायदे —

यदि आप अपनी त्वचा को खुबशुरत बनाना चाहते हैं तो आपको गुलकंद का सेवन करना चाहिए इससे आपकी त्वचा संबंधी कई परेशानियां जैसे — व्हाइटहेट्स एवं मुंहासों से छुटकारा मिल सकता है। यदि आप त्वचा के लिए गुलकंद का प्रयोग करना चाहते हैं तो आपको इससे पहले अपने डॉक्टर या फिर त्वचा के विशेषज्ञ से सम्पर्क करना चाहिए।

8. मानसिक स्वास्थ्य के लिए गुलकंद के फायदे —

गुलकंद को दिमाग के स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद माना जाता है। गुलकंद में एंटी—आंक्सीडेंट गुण पाये जाते हैं जो हमारी याददाश्यत के लिए बेहतर माना जाता है। इसके अतिरिक्त आप दिमाग से जुड़ी अन्य बिमारियों से भी बच सकते हैं।

गुलकंद कैसे बनायें – How To Make Gulkand

आप गुलकंद को अपने घर पर ही बना सकते हैं। इसकी आसान वीधि हम आपको यहां बताने जा रहे हैं —

गुलकंद के लिए सामग्री :

  • 250 ग्राम गुलाब की पंखुड़ियां
  • एक छोटी चम्मच इलायची पीसी हुई
  • 250 ग्राम पिसी हुई मिश्री
  • सौंफ पीसी हुई करीब आधा चम्मच

गुलकंद बनाने की विधि :

  • सबसे पहले आपको गुलाब की पंखुड़ियों को अच्छी तरह धो लेना चाहिए फिर उसे एक कपड़े पर फैला कर अच्छी से सुखा लें।
  • इन सूखी पंखूड़ियों को एक चौड़े बर्तन में रखें अब उसमें मिश्री डालकर हाथों से मिलायें।
  • अब इसमें पीसी हुई इलायची एवं सौंफ मि​ला लें। अब इसको एक कांच के बर्तन में रखें।
  • इस तैयार गुलकंद के मिश्रण को आप धूूप में रखें इसको करीब दस दिनों तक सूखा लें।
  • धूप में रखने के बाद मिश्री ​पिघली शुरू हो जाती है और गुलाब की पंखुड़ियां उसमें घुल जाती है।
  • करीब दस दिन बाद आपका गुलकंद तैयाद हो जायेगा। फिर आप इसको खाने के लिए प्रयोग कर सकते हैं।

गुलकंद खाने के तरीके – How To Eat Gulkand

गुलकंद को आप जैसे चाहे वैसे खा सकते हैं। इसको आप ब्रेड या दूध के साथ खा सकते हैं या फिर आप इसे सीधे भी खा सके हैं। आप गुलकंद का लड्डू भी खा सकते हो। गुलकंद किस समय खाना चाहिए यह भी एक सवाल ही है आप इसे सुबह या शाम किसी भी समय खा सकते हैं। यदि आपको कब्ज की समस्या है तो आप इसे सोने से पहले दूध के साथ खायें इससे आपको कब्ज की समस्या में फायदा होगा।

गुलकंद से होने वाले नुकसान – Side Effects of Gulkand

गुलकंद के बहुत से फायदे है और इसके नुकसान बिल्कुल ना के बराबर क्योंकि इसको बनाने में किसी भी प्रकार के रसायनिक तत्व का प्रयोग नहीं किया जाता है। परन्तु इसमें शुगर का प्रयोग अधिक मात्रा में होता है जो कुछ नुकसान पहुंचा सकती है। आप कुछ सावधानियां बरत कर इससे बच सकते हैं। यदि आप शुगर के मरीज हैं तो आपको इसका प्रयोग अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए।

हमने इस आर्टिकल में आपको गुलकंद से जुड़ी हर वह जानकारी देने की कोशिश की है जो आपके लिए फायदेमंद हो सकती है। आपको यह बता कि एक गुलाब जो आपके बगीचे में उगता है उसे जब गुलकंद बनाया जाता है तो वह आपके लिए कितना फायदेमंद होता है। अगर आपको इससे जुड़े फायदे समझ में आ गये हैं तो आपको नियमित रूप से गुलकंद का प्रयोग करना चाहिए। यदि आपको यह लेख गुलकंद के फायदे और नुकसान – Gulkand Benefits in Hindi  पसंद आया तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें।

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap