Cinnamon Oil in Hindi | दालचीनी के तेल के फायदे और नुकसान

Cinnamon Oil in Hindi (दानचीनी के तेल के फायदे) — भारतीय व्यंजनों में पड़ने वाले मसालों में दालचीनी का अपना खास स्थान है। भोजन का स्वाद बढ़ाने के साथ ही यह स्वास्थ्य के लिए भी बहुत फायदेमंद होती है। दानचीनी ही नहीं इससे बनने वाले तेल का उपयोग भी कई प्रकार की शारीरिक समस्याओं के लिए किया जाता है।

आज हम इस लेख में आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं। क्या आपने दालचीनी के तेल के बारे में सुना है नहीं तो आप इस लेख को पूरा अवश्य पढ़े। तो आइये शुरू करते हैं इस लेख को — दालचीनी के तेल के फायदे और नुकसान – Cinnamon Oil Benefits and Side Effects in Hindi, दालचीनी के फायदे, Cinnamon Benefits, दालचीनी के तेल के नुकसान, Dalchini Oil

Table of Contents

दालचीनी क्या है? Dalchini Kya Hai?

दालचीनी के वृक्ष का वैज्ञानिक नाम सिन्नेमोमम वेरम है। इसका कुल लौरालेसी है। सामान्य भाषा में इसे दालचीनी या सिनामन कहा जाता है। दालचीनी की तासीर गर्म होती है इसी कारण इसका उपयोग कफ को हटाने के लिए भी किया जाता है।

दालचीनी को पेड़ की अन्दर की छाल से प्राप्त किया जाता है। इसका वृक्षा पूरे साल हरा रहता है।  दालचीनी के वृक्ष की छाल ही नहीं उसके पत्ते भी मसाले के रूप में प्रयोग किये जाते हैं।

(और अधिक पढ़े … दालचीनी के फायदे)

दालचीनी के तेल के फायदे – Benefits of Cinnamon Oil in Hindi

दालचीनी का तेल हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। इसमें बहुत से गुण पाये जाते हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं। आगे के लेख में हम आपको इससे होने वाले फायदों के बारे में विस्तार से जानेंगे।

1. हृदय के लिए दालचीनी के तेल के फायदे —

दालचीनी तो हृदय के लिए फायदेमंद होती ही है साथ ही दालचीनी का तेल भी हृदय के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना जाता है। एक अध्ययन के अनुसार दालचीनी का तेल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में सहायता करता है। इसकी कारण से दालचीनी का तेल हृदय के लिए फायदेमंद होता है क्योंकि यदि आपका कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाये तो यह हृदय रोगों के जोखिम को बढ़ा देता है। अत: यदि आपको हृदय को स्वस्थ्य रखना है तो आप दालचीनी के तेल का उपयोग कर सकते हो।

2. त्वचा के लिए दालचीनी के तेल के लाभ —

दालचीनी का तेल आपकी त्वचा के लिए फायदेमंद हो सकता है। यदि आप दालचीनी के तेल से बने हर्बल साबुन का उपयोग अपनी त्वचा एवं चेहरे की सफाई के लिए करते हैं तो यह आपकी त्वचा को दाग—धब्बों के साथ ही मुंहासों से भी छुटकारा दिलाता है। वहीं यदि आप इस तेल को शहद के साथ मुंहासों पर लगाते हैं तो आपके मुंहासे ठीक हो जाते हैं इसका कारण है इसमें पाया जाने वाला एंटीबैक्टीरिल गुण।

3. मधुमेह में दालचीनी के तेल के लाभ —

अगर आप मधुमेह के रोग से परेशान हैं तो आपके लिए दालचीनी का तेल फायदेमंद हो सकता है। दालचीनी के तेल में एंटी-डायबिटिक गुण पाया जाता है जो ब्लड ग्लूकोज को कम करने में मदद करता है। विशेषकर  यह टाइप-2 डायबिटीज के उपचार में फायदेमंद होती है।

4. कैंसर में दालचीनी का तेल —

कैंसर एक जानलेवा बिमारी है और दालचीनी का तेल कुछ हद तक कैंसर के रोग में भी फायदेमंद हो सकती है। एक शोध के अनुसार दालचीनी के तेल में एंटीकैंसर गुण पाया जाता है जो कैंसर से बचने में मदद कर सकता है। इस एंटीकैंसर गुण का असली कारण है दालचीनी में पाया जाने वाला ट्रांस-सिनामलडिहाइड (trans-cinnamaldehyde) नामक तत्व। यह तत्व स्तन कैंसर के खतरे को कम करने में सबसे अधिक प्रभावी होता है। कैंसर एक खतरनाक बिमारी है यदि यह आपको हो जाय तो तुरन्त किसी अच्छे डॉक्टर को दिखाना चाहिए। दालचीनी का तेल सम्पूर्ण उपचार नहीं है बल्कि यह तो​ सिर्फ बचाव का एक तरीका है।

5. कामोत्तेजक के लिए दालचीनी के तेल का उपयोग —

दालचीनी के तेल के फायदे यौन संबंधी गतिविधियों में भी हैं। एक रिसर्च के अनुसार दालचीनी का तेल शुक्राणु की गुणवत्ता को तो सुधारता तो है ही साथ ही उनकी गतिशीलता को भी बढ़ाता है। वहीं दूसरी ओर दालचीनी में पाये जाने वाला मेथनॉल अर्क कामोत्तेजक गुण से परिपूर्ण होता है।

6. तनाव में में दालचीनी के तेल का लाभ —

यदि आप तनाव में रहते हैं तो दालचीनी का तेल आपकी मदद कर सकता है। एक शोध में यह पाया गया है कि यदि आप दालचीनी के तेल को सूंघते हैं तो यह आपकी निराशा एवं तनाव को कम करने में मदद करती है।

7. फंगल इंफेक्शन से बचाव में दालचीनी तेल के फायदे —

फंगल इंफेक्शन में भी दालचीनी का तेल लाभकारी होता है। दालचीनी में एंटी-फंगल गुण होता है जो फंगल संक्रमण में मदद करता है। दालचीनी के तेल में पाया जाने वाला एंटीफंगल गुण कैंडिडा ट्रॉपिकल, कैंडिडा क्रूसि और कैंडिडा अल्बिकन्स जैसे फंगस को दूर करने में मदद करती है।

दालचीनी के तेल के पौष्टिक तत्व – Cinnamon Oil Nutritional Value

दालचीनी के तेल को बनाने में कुछ रसायनों का प्रयोग करते हैं जिससे इसमें औषधीय गुण आ जाते हैं। इसमें दालचीनी के सम्पूर्ण पौष्टिक तत्व होते हैं। इसमें पाये जाने वाले पौष्टिक तत्व निम्न हैं —

  • सिनामलडिहाइड
  • यूजेनॉल
  • सिनेमिक एसिड
  • सिनेमाइल एसिटेट
  • बीटा-कैरोफिलीन
  • टेरपिनोलीन
  • अल्फा–टरपिनॉल
  • अल्फा–क्यूबेबेने
  • अल्फा–थूजेने
  • अनकॉनजुगेटेड एक्सोसाइक्लिक

दालचीनी का तेल बनाने की विधि – How to Make Cinnamon Oil

दालचीनी का तेल (Cinnamon Oil) को आप कैसे बना सकते हैं और इसको बनाने के लिए क्या—क्या समग्री चाहिए होगी एवं इसकी सारी विधि आपको आगे बताने जा रहे हैं। तो सबसे पहले जानते हैं इसमें प्रयोग होने वाली

सामग्री —

  • दालचीनी (जो पाउडर के रूप में हो) – 25 ग्राम
  • चीज़क्लॉथ (जाली) – एक
  • जैतून का तेल – 100 ग्राम

उपरोक्त तीन सामग्री हमें चाहिए होंगी Dalchini Oil को बनाने के लिए हम आगे इसको बनाने की पूरी विधि को जानते हैं —

बनाने की विधि —

  • दालचीनी के तेल को बनाने के लिए हमको सबसे पहले एक बर्तन में जैतून का तेल डालना होगा।
  • इस तेल में अब दालचीनी का पाउडर को मिला लें।
  • जब दोनों अच्छी तरह से ​आपस में मिल जाय तो इसको गैस पर गर्म करना शुरू कर दें।
  • अब इस मिश्रण को हल्की आंच में कम से कम 12 से 15 मिनट तक पकाएं।
  • जब इसका समय पूरा हो जाय तो आपको इस तैयार मिश्रण को जाली अर्थात चीज़क्लॉथ की सहायता से छान लेना चाहिए और इस तैयार तेल को किसी एयरटाइट बोतल में रख लेना चाहिए।
  • अब आप इस तेल को उपयोग करने के लिए तैयार हैं।

दालचीनी के तेल का उपयोग – How to Use Cinnamon Oil

अब आगे के लेख में हम जानेंगे दालचीनी के तेल को आप किस प्रकार उपयोग कर सकते हैं।

  • यदि आपको जोड़ों में दर्द रहता है तो आप दालचीनी का तेल का उपयोग इस समस्या में कर सकते हैं।
  • त्वचा के लिए भी दालचीनी के तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है मगर इसको आप हर्बल साबुन और क्रीम के साथ ही करें तभी यह अधिक फायदेमंद होगा।
  • इसको आप माउथवॉश के रूप में भी प्रयोग कर सकते हैं इसके लिए आप एक गिलास गुनगुने पानी में इस  तेल की कुछ बूंदों को डालकर प्रयोग कर सकते हैं।
  • दालचीनी के तेल को आप अरोमाथेरेपी के लिए भी प्रयोग कर सकते हैं।
  • दालचीनी की बेहतरीन सुगन्ध के कारण आप इसके तेल को परफ्यूम की तरह भी प्रयोग कर सकते हैं।

दालचीनी तेल के नुकसान – Side Effects of Cinnamon Oil

दालचीनी के तेल के फायदे तो आप जान ही चुके हैं अब इससे होने वाले नुकसानों को भी आपको जानना चाहिए। तो आइये जानते हैं दालचीनी के तेल से होने वाले नुकसानों को —

  • यदि आप लिवर से जुड़ी किसी रोग से पीड़ित हैं तो आपको दालचीनी के तेल के सेवन से बचना चाहिए। यदि आप दालचीनी के तेल का सेवन करते हैं तो यह आपको एवं आपके लिवर को नुकसान पहुंचा सकता है।
  • शराब के सेवन के साथ इसका सेवन बिल्कुल न करें इससे आपके स्वास्थ्य को खतरा हो सकता है।
  • पैरासिटामोल दवा के प्रयोग के सबसे दालचीनी के तेल के प्रयोग से बचें।
  • दालचीनी के तेल के अधिक सेवन से यह केंद्रीय तंत्रिका तंत्र अवसाद (central nervous system) के रोग का कारण बन सकता है। यह आपके मस्तिष्क और रीढ़ को नुकसान पहुंचा सकता है।
  • यदि आपके ब्लड में ग्लूकोज की मात्रा पहले से ही कम है उनको दालचीनी का तेल का प्रयोग एक निश्तिच मात्रा में करना चाहिए क्योंकि इसें ग्लूकोज के स्तर को कम करने का गुण पाया जाता है। यदि आप इसका प्रयोग अधिक करते हैं तो यह आपके ब्लड में मौजूद जरूरी ग्लूकोज कोभी कम कर सकता है। इससे आपको नुकसान हो सकता है।

दोस्तों आपने दालचीनी के फायदों और नुकसानों को अच्छी तरह से जान लिया होगा। इससे होने वाले नुकसान के सामाने इससे होने वाले फायदे बहुत हैं और आप थोड़ी सी सावधानी रखकर इससे होने वाले नुकसानों से बच सकते हैं। दोस्तों यदि आपको यह लेख अच्छा लगा तो आप इस लेख ‘दालचीनी के तेल के फायदे’ को अपने दोस्तों के साथ अवश्य ही शेयर करें।

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap