चिया बीज के फायदे, उपयोग और नुकसान – Chia Seeds Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

हमारी धरती से प्राप्त होने वाला सबसे पौष्टिक भोज्य पदार्थो में से एक है चिया बीज। इसके इसी गुण के कारण इसे सुपरफूड की श्रेणी में रखा गया है।

इससे पहले की हम चिया बीज के उपयोग व फायदो के बारे में बात करें उससे पहले हमें यह जानना जरूरी होगा कि चिया बीज क्या है?

तो आइये बात करते हैं चिया बीज क्या है?

Table of Contents

चिया बीज क्या है?

चिया बिज मध्य अमेरिका (मैक्सिको) में उगाए जाने वाले सैलवीय हिस्पानिका (Salvia Hispanica) नाम के फूल का बीज है।

जो मध्य अमेरिका के लोगों का मुख्य भोज्य पदार्थ था। क्यों की उस समय के लोग चिया बीज को शक्ति व ऊर्जा का मुख्य श्रोत मानते थे।

चिया बीज के पौधों को बिना किटनाशकों के उगाया जाता है है इसका मुख्य कारण यह है कि यह मिंट प्रजाति अर्थात पोदीने की प्रजाति का पौधा है जिससे किट-पतंगे दूर ही रहते हैं।

चिया सीड (बीज) देखने में बहुत छोटे सफेद, भूरे और काले रंगों के होते हैं।

यह भारत में नहीं पाए जाते हैं क्यों कि इन्हें बढ़ने के लिए 23 डिग्री उत्तर और 23 डिग्री दक्षिण में उगाया जाता है।

कई लोग चिया बीज को तुलसी के बीज मानते हैं पर यह बिल्कुल गलत धारणा है। तुलसी के बीज को सब्जा बीज या तुकमलंगा कहा जाता है परन्तु चिया बीज अलग होते हैं।

चिया सीड में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Nutrition in Chia Seeds in Hindi)

प्रोटीन फाइबर फैट ओमेगा
जिंग विटामिन ए, बी, ई, डी कॉपर पोटेशियम
कैल्शियम कार्बोहाइड्रेटफास्फोरस मैंगनीज
आयरन अमिनो एसिड थायमिन नियमिन सल्फर

इतना ही नहीं चिया बीज में ब्लू बेरी से तीन गुना ज्यादा एंटी आक्सीडेंट होता है।

पालक से तीन गुना ज्यादा आयरन, विटामिन और मिनरल का प्राकृतिक स्रोत है।

दूध से पांच गुना ज्यादा कैल्शियम, ब्राकली से 15 गुना ज्यादा मैग्नीशियम, सैल्मन की तुलना में 8 गुना ज्यादा ओमेगा-3, प्रोटीन की अत्यधिक मात्रा इतना हीं नहीं शाकाहारी लोगों के लिए यह सबसे अच्छा प्रोटीन स्रोत है।

यह हमारे शरीर के लिए कई तरह से फायदेमंद है जैसे दिल की बिमारियों, वजन कम करने के लिए, डायबिटीज के लिए, हड्डीयों के लिए, कब्ज के लिए और त्वचा के लिए।

चिया सीड में पाए जाने वाले पोषक तत्व

अच्छे फैटी एसिड का सेवन करने का सही तरीका है चिया बीज (सीड) का सेवन करना क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है।

साथ ही इसमें घुलनशील फाइबर की प्रचूर मात्रा पाई जाती है।

अगर हम इसको कुछ समय के लिए पानी में डाल दें तो यह जैल में बदल जाता है।

फाइबर हमारे शरीर के लिए कई तरह से फायदेमंद हैं यह ब्लड शुगर को कम रखने में सहायता करता है।

यह हड्डी से जुड़ी समस्याओं में फायदेमंद होता है, यह आतं में अच्छे बैक्टीरिया को पनपने में मदद करता है जिससे हमारी पाचन शक्ति बढ़ जाती है और कब्ज की बिमारी होने से बचाता है।

हमारे लिए चिया बीज फायदेमंद क्यों?

चिया बीज में बहुत कम कैलोरी के साथ-साथ पोषक तत्वों की भरपूर मात्रा होती है। इस बीज में प्रोटीन, फाइबर, फैट, ओमेगा-3, जैसे कई तत्व पाए जाते हैं।

चिया बीज के फायदे Benefits of Chia Seeds in Hindi

1. वजन कम करने के लिए चिया बीज

भाग-दौड़ भरी इस जीवन में हमारी जीवनशैली बदल सी गई है न हमारे खाने का कोई समय है न ही आराम करने का कई लोग रात को काम करते हैं और दिन में सोते हैं।

वनज कम करने के लिए चिया बीज

इसी तरह के व्यस्त जीवन में हमें हमारे लिए या कहे हमारे शरीर के लिए समय ही नहीं है।

जिससे हमारे शहरी में कई प्रकार की बिमारियां घर कर जाती है उसमें से एक है मोटापा।

शरीर का वजन एक तय सीमा से अधिक हो जाना कई बिमारियों को पैदा करता है।

इसके लिए हम कई तरह की दवाओं का प्रयोग करते हैं मगर फायदा नहीं होता है मगर हम अपनी रोज के खाने में चिया सीड (बीजों) का प्रयोग कर अपने वजन को कम कर सकते हैं।

चिया बीज में अत्यधिक मात्रा में फाइबर होता है जिसके सेवन से अधिक समय तक हमें भूख का एहसास तक नहीं होता और पेट भरा-भरा सा महसूस होता है।

जिससे हम अधिक भोजन नहीं करते और हमारा वजन घट सकता है।

चिया बीजों में भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है।

जिससे इसके सेवन से हमें भूख कम लगती है और फैट कम करने में अहम भूमिका निभाता है जिसकी वजह से वजन कम होता है।

सुबह के नाश्ते के वक्त इसका प्रयोग कर सकते हैं।

पहले हम एक गिलास में पानी लेंगे और उसमें चिया बीजों को डालेंगे कुछ समय के लिए उन्हें छोड़ देंगे। जब वह पानी में घुल जाए तो उसका सेवन करेंगे।

जिससे हमारा नाश्ता  भी हो जाएगा और चिया बीज से हमारी भूख भी शांत हो जाएगी।

और काफी समय तक हमें भूख का एहसास तक नहीं होगा जिससे हमें वजन कम करने में मदद मिलेगी।

2. हड्डियों और दांत के लिए चिया बीज

हमारी उम्र बढ़ने के साथ ही हमारी हड्डियां और दांत कमजोर हो जाते हैं।

हड्डियों और दांत के लिए चिया बीज

इससे बचाव के लिए हमें नियमित रूप से पोषण तत्व, मिनरल्स और विशेषकर कैल्शियम की आवश्यकता होती है।

इसके लिए हमें अभी अर्थात उसे अवस्था में पहुंचने से पहले ही अपना आहार संतुलित रखना आवश्यक है जिससे भविष्य में हमें इन परेशानियों का सामना न करना पढ़े।

इसके लिए हमारे पास एक आसान उपाय है जिससे हमें सभी प्रकार के पोषक तत्व व विशेषकर कैल्शियम प्राप्त हो जाता है वह है चिया के बीज।

वैज्ञानिकों के अनुसार हड्डियों को कमजोरी से बचाने के लिए कैल्सियम युक्त भोज्य पदार्थ खाना चाहिए।

चिया सीड में कैल्शियम व फास्फोरस प्रचुर मात्रा में मिलता है।

इसके सेवन से हमारे शरीर की कैल्शियम व फास्फोरस की पूर्ति आसानी से हो जाएगी और हड्डियों व दांतों की कमजोरी की परेशानी से मुक्ति मिलेगी।

चिया सीड (बीज) को अपने प्रतिदिन के खान-पान में इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि चिया बीज में एन्टीआक्सीडेंट की मात्रा पायी जाती है जो हमारे दांतों को होने वाले नुकसान से बचाती है।

इसलिए हमें चिया बीज को प्रतिदिन खाना चाहिए जिससे हमारे दांतों व हड्डियों को बचाया जा सकें।

3. दिल के लिए चिया बीज

आजकल की जीवनशैली के कारण दिल की बिमारी लगना आम बात हो गयी है।

दिल के लिए चिया बीज

वृद्धों को ही नहीं युवाओं में भी दिल की बिमारी बढ़ती जा रही है जो एक गम्भीर बात है।

एक स्वस्थ्य शरीर के लिए स्वस्थ दिल होना जरूरी है।

दिल की बिमारी से बचाव के लिए चिया बीज का प्रयोग किया जा सकता है।

वैज्ञानिकों ने चिया बीजों को सुपरफूड की संज्ञा दी है। जिसके लगातार सेवन से हमारा दिल मजबूत होता है और दिल की बिमारी होने का खतरा कम हो जाता है।

चिया सीड (बीज) में मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड हृदय को स्वस्थ रखता है।

इसलिए हमें अगर अपने हृदय को स्वस्थ रखना है तो चिया बीज को अपने रोजाना के खाने में प्रयोग करना होगा।

चिया बीज में फाइबर के प्रचूर मात्रा तो पाई ही जाती है साथ ही में चिया बीज एन्टीआक्सीडेंट गुणों से परिपूर्ण है जो हृदय (दिल) से जुड़ी बिमारियों के लिए बहुत ही फायदेमंद हैं।

इसके लगातार सेवन से हमें दिल से जुड़ी बिमारियों के होने का खतरा कम हो जाता है।

4. कोलेस्ट्रोल कम करने के लिए चिया बीज

खान-पान की गलत आदतों व हमारी बिगड़ी दिनचर्या के कारण हमारे शरीर में बिमारियां बढ़ती जा रही है उनमें से एक है कोलेस्ट्रोल।

हमारे शरीर में दो तरह का कोलेस्ट्रोल होता है एक अच्छा व दूसरा बुरा।

एचडीएल (हाई डेन्सिटी लिपोप्रोटीन) जिसे अच्छा कोलेस्ट्रोल कहते है और एलडीएल (लो डेन्सिटी लिपोप्रोटीन) जिसे बुरा कोलेस्ट्रोल कहते है।

जब हमारे शरीर में बुरा (बेड) कोलेस्ट्रोल बढ़ने लगता है तो हमारी रक्त धमनियां सिकुड़ने लगती हैं।

जिससे हमारे हृदय में रक्त प्रभाव कम हो जाता है और हमारी हृदय गती रूकने का खतरा होता है।

इतना ही नहीं हमें हृदय सम्बन्धी अन्य बिमारियों के होने का खतरा भी रहता है।

एक अध्ययन से पता चला है कि अगर हम रोजाना चिया बीजों को सेवन करते हैं।

तो उसमें उपस्थित ओमेगा-3 फैटी ऐसिड शरीर से बेड कोलेस्ट्रोल को कम करके अच्छे कोलेस्ट्रोल को बढ़ाने में मदद करता है।

जिससे हृदय रोग होने का खतरा कम हो जाता है।

5. कब्ज से राहत के लिए चिया बीज

कब्ज की बिमारी सभी में पाई जाने लगी है।

इसका मुख्य कारण है हमारा खान-पान। हमारे भोजन से फाइबर युक्त भोज्य पदार्थ कम होते जा रहे हैं।

उसकी जगह नूडल्स, फास्टफूड व मैदे से बनी अन्य चीजों ने ले ली है जिसका अत्यधिक सेवन हमारे शरीर के लिए ठीक नहीं है।

इससे बचाव के लिए हमें अपने भोजन में नियमित रूप से फाइबर युक्त भोज्य पदार्थ का उपयोग करना चाहिए।

जिसका मुख्य श्रोत चिया बीज में उपलब्ध है।

चिया बीज में फाइबर प्रचूर मात्रा में पाया जाता है खासकर अघुलनशील फाइबर जो हमारे पेट के लिए काफी फायदेमंद है।

चिया बीज पानी से मिलकर एक जेल का रूप ले लेता है।

जिसके रोजाना खाने से हमें कब्ज से राहत तो मिलती ही है साथ ही हमारी पाचन शक्ति में भी वृद्धि होती है।

6. डायबिटीज के मरीजों के लिए चिया बीज

आमतौर पर देखा गया है कि डायबिटीज छोटी उम्र से ही हो रही है।

इससे बचाव के लिए हमें पहले से ही अपने व अपनों का ख्याल रखना चाहिए।

अगर आप डायबिटीज से परेशान है या इससे बचाव चाहते हैं तो हमें चिया बीजों का सेवन प्रतिदिन करना चाहिए जिससे डायबिटीज की बिमारी में हमें फायदा होगा।

डायबिटीज के कारण हमें हृदय से जुड़ी बिमारियां भी हो सकती है।

चिया बीजों में फाइबर व अन्य पोषक तत्व पाये जाते है जो हमें डायबिटीज से लड़ने में मदद करता है।

7. एनर्जी बढ़ाने के लिए चिया बीज

हमारे शरीर को कार्य करने के लिए ऊर्जा अर्थात एनर्जी की आवश्यकता होती है और यह आवश्यकता हमारे लिए भोजन करनता है।

मगर भोजन में भी वह सभी प्रकार के विटामिन, मिनरल्स होने चाहिए जो हमारे शरीर को सन्तुलित ऊर्जा प्रदान कर सके।

इसके लिए हमें फल, सब्जियां और अन्य प्रकार के अनाज, दूध, मांस, मछली, अंड़ों का प्रयोग करना पड़ता है।

मगर सन्तुलित ऊर्जा प्राप्त करने के लिए हमारे पास एक उपाय है जो है चिया बीज।

इसमें सभी प्रकार के तत्व प्राप्त हो जाते हैं तभी तो इसे सुपरफूड की श्रेणी में रखा गया है।

इसमें बिटामिन-बी, आयरन, जिंक और मैग्नीशियम के अलावा कई प्रकार के पोषक तत्व भी पाये जाते हैं।

अगर हम अपने भोजन में चिया बीजों का प्रयोग नियमित तौर से करें तो हमारे शरीर को जो ऊर्जा की आवश्यकता होती है वह मिल जायेगी।

और हमारा शरीर सही तरीके से कार्य करेगा।  

8. स्तन कैंसर से बचाव के लिए चिया बीज

वर्तमान समय में महिलाओं की अतिव्यस्त होती जा रही जीवनशैली के कारण उमें स्तन कैंसर (ब्रेस्ट कैंसर) की समस्या पैदा होती जा रही है।

इसे बिमारी के ईलाज में लगने वाला खर्चा सभी के लिए आसान नहीं होता है।

अतः हमें इसके ईलाज से ज्यादा इससे बचाव के उपायों को ठूंठना जरूरी है।

इसके लिए पहले तो हमें अपनी जीवनशैली को बदलना होगा अपने खान पान में पौष्टिक पदार्थो को शामिल करना होगा ।

अगर हम चिया बीजों को अपने भोजन में सम्मिलित करें तो स्तन कैंसर का खतरा काफी हद तक कम हो सकता है।

वैज्ञानिकों के अनुसार चिया बीज में अल्फा लिनोलिक एसिड और ओमेगा-3  होता है जो स्तन कैंसर होने से रोकने में मदद करते हैं।

9. नींद न आने की समस्या के लिए चिया बीज

व्यस्त होते जीवन में नींद के लिए तो हमारे पास समय ही नहीं रह गया हैं जिस कारण हमें नींद भी आना कम हो गयी है।

मगर एक स्वस्थ्य शरीर के लिए 6 से 8 घंटे की नींद जरूरी है।

मगर हमारी रोजमर्रा के जीवन में ऐसा कम ही होता है। जिस कारण हमें कई प्रकार के रोग लग जाते है। इनमें से है नींद न आना जिस कारण हमें तनाव रहता है।

नींद के लिए हम नींद की दवाई का प्रयोग करते हैं जो कई तरह से साइड डिफेक्ट पैदा करती है।

ऐसे में हम घरेलू उपाय करत सकते हैं। जिसमें से एक है चिया बीज।

हमारी नींद के लिए सेरोटोनिन और मेलाटोनिन हार्मोन जिम्मेदार होते हैं और ये दोनों शरीर के एक एमिनो एसिड ट्रिप्टोफैन द्वारा निर्मित होते हैं।

वैज्ञानिकों ने बताया है कि ट्रिप्टोफैन को नींद की समस्या के लिए प्रयोग किया जाता है।

चिया बीजों में भी ट्रिप्टोफैन की मात्रा पाई जाती है। अतः चिया बीजों के सेवन से भी हमें अनिद्रा या नींद न आने की समस्या को काफी हद तक समाप्त कर सकते हैं।

10. एंटीआक्सीटेन्ट से भरपूर चिया बीज

एंटीआक्सीटेन्ट कई प्रकार की बिमारियों में लाभकारी होता हैं।

ऐसे में अगर हम दवाईयों से दूर रहना चाहते हैं तो अपने भोजन में एंटीआक्सीटेन्ट का प्रयोग करना चाहिए।

इसका एक प्रमुख स्रोत है चिया बीज जिसका सेवन में अपने भोजन के रूप में भी कर सकते हैं या पानी में घोल कर भी खा सकते हैं और कई प्रकार की बिमारियों से बचाव कर सकते है।

11. प्रोटीन के भरपूर चिया बीज

प्रोटीन हमारे षरीर के लिए कितना आवष्यक है यह तो सभी को पता ही है।

यह मांसपेषियों, इम्युनिटी सिस्टम और हड्डियों के लिए जरूरी है।

उम्र बढ़ने से हमारे षरीर में कमजोरी की ज्यादा समस्या होती है इसका मुख्य कारण है।

प्रोटीन की कमी। इस समस्याओं के निदान के लिए हमें अपनी डायट में प्रोटीन की उचित मात्रा का प्रयोग करना चाहिए।

इसके लिए इसके एक अच्छे स्रोत चिया बीजों जिसमें प्रोटीन की मात्रा 19 प्रतिषत होती है को अपनी डायट में षामिल कर सकते हैं।

जिससे हमारी प्रोटीन की आवष्यकता पूरी होती है।

12. त्वचा के लिए चिया बीज

अपने शरीर के साथ ही हमें अपनी त्वचा का भी ध्यान रखना चाहिए।

उम्र बढ़ने व प्रदूषण से हमारी त्वचा रूखी होने लगती है।

इस स्थिति में अपनी त्वचा में नमी बनाये रखने के लिए हम क्रीम, लोशन व अन्य उपायो में ही उपयोग नहीं कर सकते।

इसके लिए हमें पोषण तत्वों का प्रयोग भी अपने भोजन में करना चाहिए।

जिससे हमारी त्वचा में निखार आ सके।

इसके लिए हमें ओमेगा-3 फैटी ऐसिड युक्त पौष्टिक भोज्य पदार्थ लेना आवश्यक है।

इसके लिए हम चिया बीजों का प्रयोग कर सकते हैं इसमें वह सभी मिल जाता है जो हमें जरूरी होता है।

अतः हमें अपनी डायट में इसका प्रतिदिन प्रयोग करना चाहिए।

इससे हमारी त्वचा में निखार तो आता ही है और सूजन भी कम होता है।

13. गर्भावस्था में चिया बीज

गर्भावस्था में महिलाओं का खास ख्याल रखने की सलाह डाक्टर हमेंशा ही देते हैं।

उनकी डायट का खास ख्याल रखने के लिए कहा जाता है।

उनके लिए सन्तुलित भोजन जरूरी होता है जिसमें विटामिन, मिनरल, आयरन, जिंग, प्रोटीन, कैल्शियम, फाइबर उचित मात्रा में हों।

जिससे गर्भवती महिला ही नहीं उसके होने वाले बच्चे को भी उचित पौषण प्राप्त हो सके।

ऐसे में अगर हम चिया बीजों का प्रयोग करें तो उचित होगा।

क्योंकि चिया बीजों को सुरपफूड के तौर पर जाना जाता है। गर्भावस्था में चिया बीजों का सेवन गर्भवती महिला के लिए अच्छा हो सकता है।

नोट- अगर आपको किसी भी चिज से एलर्जी होती हो तो चिया बीजों के सेवन से पहले आपको अपने डाक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

गर्भावस्था में आपको डाक्टर से सलाह लेकर ही इसका सेवन करना चाहिए क्योंकि यह किसी को सूट करती है और नहीं भी कर सकती है।

14. पाचन के लिए चिया बीज के फायदे

चिया बीज में फाइबर कि मात्रा अत्यधिक पाई जाती है जिससे शरीर के इंसुलिन स्तर को नियंत्रित रखने में मदद मिलती है।

विशेषज्ञों के अनुसान चिया बीज में उच्च मात्रा में फाइबर होने के कारण यह प्राकृतिक रूप से ब्लड शुगर को नियंत्रित करता है।

चिया बीज में फाइबर की मात्रा अधिक होने से आसानी से पच जाता है। और हमारे पाचन तंत्र को मजबूत करने में भी मदद करता है।

चिया बीज में युक्त फाइबर पाचन तंत्र में जैविक पदार्थ के रूप में कार्य करता है जो तरल को धिक मात्रा में अवशोषित कर सकता है।

चिया सीड भोजन के रूप में बहुत ही हल्के होते है और आसानी से पच जाते है और शरीर को उसकी आवश्यकता के अनुसार उर्जा भी देते हैं।

15. भूख को कम करने में चिया सीड्स के फायदे

जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं उनके द्वारा चिया बीज का प्रयोग किया जाता है। चिया बीज हमारी पाचन शक्ति को धीमा करने और बढ़ाने में मदद करते हैं। और इसमें अधिक मात्रा में फाइबर भी पाया जाता है।

इसके साथ ही इनमें प्रचूर मात्रा में प्रोटीन होने से यह हमारी असमय लगने वाली भूख को कम करने में मदद करता है। जिससे हमें मोटापा कम करने में सहायता मिलती है।

16. मूड में सुधारने में चिया बीज के फायदे

चिया एक सुपरफूड है जिसके नियमि प्रयोग से हमारा स्वास्थ्य ठीक रहता है जिससे हमारे मूड को सही रखने में मदद मिलती है। एक अध्ययन में पता चला है कि ओमेगा -3 फैटी एसिड मूड को सुधारने में मदद करता है।

यह यह चिया बीज में अच्छी मात्रा में पाया जाता है। इसके लिए   चिया बीजों को 10 मिनट तक पानी में भिगाएं और जब यह अच्छी तरह से भीग जाय तो इनका दलिया बनाकर खान लें।

अगर आप चाहे तो इसमें कोई फल या ड्राइ फूड भी मिला सकते हैं। इसको खाने से आपके स्वास्थ्य के साथ—साथ आपको मूड भी अच्छा रहेगा।

चिया बीज के अन्य फायदे

प्रोटीन, आयरन, फाइबर, ओमेगा-3 फैटी एसिड, मिनरल्स और कई अन्य पोषक तत्वों के कारण ही चिया बीजों को सुपरफूड के तौर पर जाना जाता है।

अभी तक हमने जिन फायदों को ऊपर देखा है इसके अलावा भी कई अन्य फायदे हैं।

चिया बीजों के। जैसे – शरीर के तापमान को नियंत्रित रखने के लिए, ब्लड शुगर के लिए, नर्वस सिस्टम को संतुलित रखने के साथ ही साथ त्वचा की झुर्रियों को भी कम करना, शरीर की सूजन कम के लिए इसका प्रयोग होता है।

इसके पूरे फायदों के बारे में बताना बहुत ही मुश्किल है क्योंकि यह बहुत से पोषक तत्वों से युक्त है किसी न किसी रूप में यह शरीर के लिए फायदेमंद तो है ही।

चिया बीजों का सेवन करने की विधि

अब हम बात करते है चिया बीजों का सेवन कैसे करें।

आप रोज के अपने भोजन में इसका प्रयोग कर सकते है।

इसको कुछ मात्रा में आप अपने भोजन में प्रयोग कर सकते है।

हम आपको कुछ तरीके बता रहे है जिससे आप चिया बीजों को सेवन कर सकते हैं।

पानी में भिगोकर चिया बीज का सेवन करना

सबसे आसान तरीका है चिया बीजों को पानी के साथ लेना।

इसके सम्पूर्ण फायदों का लाभ उठाना है तो हमें चिया बीजों को रातभर के लिए पानी में भिगोकर छोड़ देना चाहिए जिससे यह एक जेल के रूप में बदल जायेगा।

जिसे में सीधे भी खा सकते हैं या फिर स्मूदी या प्रोटीन शेक में मिलाकर भी खा सकते है।

यह जेल में रूप होता है जो चिपचिपा सा लगता है यही जेल हमारी पाचन शक्ति को बढ़ाने में मदद करता है और हमारा शरीर इसको आसानी से अवशोषित कर लेता है।

इससे आप रात भर नहीं भीगाना चाहे तो आप इसे 20 से 30 मिनट तक भीगाकर भी खा सकते है।

दही के साथ चिया बीज का प्रयोग

अगर आपको पानी के साथ इसका सेवन ठीक नहीं लगा रहा हो तो आप नाश्ते में चिया सीड को दही में मिलाकर इसका सेवन कर सकते है।

चिया बीजों का पाउडर बनाकर इसका प्रयोग

आप इसका सेवन पाउडर के तौर पर भी कर सकते हैं। इसको पीसने के लिए ग्राइंडर का  प्रयोग कर सकते हैं। पीसने के लिए यह थोड़ा चिपचिपा सा लग सकता है।

मगर इसकी चिंता नहीं करनी चाहिए इसके सभी पोषक तत्व आपको पाउडर के तौर पर भी मिल जाएंगे।

इतना ही नहीं आप अन्य भोज्य पदार्थो के साथ ही इसका प्रयोग कर सकते है। 

चिया बीजों को खाने में छिड़ककर, सूप या सॉस में मिलाकर, दलिये में डालकर इसका प्रयोग कर सकते हैं।

चिया बीज कहां से प्राप्त करें –

चिया बीजों को हम किसी भी राशन की दुकान या स्टोर के  साथ ही आर्गेनिक दुकान से प्राप्त कर सकते हैं।

अगर आपको यह अपने घर के आस पास नहीं मिल रही है तो इसे आनलाइन भी मगाया जा सकता है।

इन बीजों को ज्यादा समय के लिए रखने के लिए इनको एयर टाईट जार में रखकर फ्रीज में रख सकते हैं।

जिससे यह ज्यादा समय ते ताजा रहे और हमें इसके पूरे पौष्टिक तत्व मिल सके।

चिया बीज की रेसिपी

इनको कैसे प्रयोग करें इसके बारे में तो हमने बात कर ली है अब हम इससे तैयार होने वाली रेसिपी के बारे में बात करेंगे।

चिया बीज का हलवा

इसके लिए हम सफेद या काले चिया बीजों को प्रयोग कर सकते हैं पर ज्यादातर इसके लिए सफेद चिया बीजों का प्रयोग होता है।

सामग्री:

  • एक तिहाई कप सफेद/काले चिया बीज
  • डेढ़ कप दूध
  • आधा चम्मच वैनिला एक्स्ट्रैक्ट
  • दो चम्मच मेपल सिरप

बनाने की विधि

  • एक बर्तन लें और उसमें सारी सामग्री को डालकर अच्छे से मिला लें। और तीन से चार घण्टे तक के लिए इसे छोड़ दें।
  • इसके बाद जब इसको देखें तो चिया बीज फूल कर हलवे जैसे हो गये होंगे। फिर इसमें फल काटकर, बादाम, पिस्ता आदि डालकर खा सकते हैं।

चिया बीजों की स्मूदी

सामग्री:

  • दो बड़े चम्मच चिया बीज
  • डेढ़ कप बादाम दूध
  • एक कप ब्लूबेरी या स्टोबेरी
  • एक चम्मच नारियल का तेल
  • थोड़ी सी दालचीनी
  • एक चम्मच वैनिला एक्सट्रैक्ट
  • एक चम्मच शहद

बनाने की विधि –

  • एक बर्तन में आधा कप बादाम दूध के साथ चिया बीजों को मिलाना है। और 10 से 15 मिनट के लिए इसको फ्रीज में रखना है।
  • मिश्रण को फ्रीज से निकालने के बाद इसको मिक्सी में डाल देना है साथ में ब्लूबेरी/स्टोबेरी, वैनिला एक्सटैक्ट, नारिल का तेल और दालचीनी डाल देनी है और अच्छी तरह से इसको पीस लेना है।
  • इसमें मीठे के लिए शहद का प्रयोग कर सकते हैं।

चिया बीजों से होने वाले नुकसान –

किसी भी चिज के फायदों के साथ नुकसान भी होते है। चाहे चिया बीजों को सुपरफूड की श्रेणी में रखा है पर इसके कुछ नुकसान भी हैं। मगर इसके फायदों के सामने इसके नुकसान नगण्य हैं। सावधानी से इसका सेवन करने से इनके नुकसान से बचा जा सकता है।

  • चिया बीजों में फाइबर की अत्यधिक मात्रा होती है। इसका अत्यधिक सेवन करने से पेट की समस्या हो सकती है। इसके लिए इसका सेवन एक निश्चित मात्रा में ही किया जाना चाहिए। हम इसका सेवन एक दिन छोड़कर कर सकते हैं।
  • चिया बीजों में ओमेगा-3 फैटी ऐसिड की मात्रा अत्यधिक मात्रा में होती है जो खून को पतला करता है। अगर कोई पहले से ही खून को पतला करने की दवा ले रहा हो तो इससा सेवन नहीं करना चाहिए।
  • अगर आपको किसी भी नई चिज से एलर्जी हो जाती है तो इसके सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह ले लेनी चाहिए। अन्यथा इसके सेवन के बाद आपको खुजली, उल्टी व दस्त जैसी समस्या हो सकती है।

चिया सीड के फायदों के सामने इसके कुछ नुकसानों से डरने की आवश्यकता नहीं है। इसका सेवन सही तरीके से करें तो यह फायदेमंद ही होगा।

अगर किसी को कुछ परेशानियां हैं भी तो विशेषज्ञों की सलाह से इसका सेवन कर सकते हैं।

चिया बीजों के फायदों को देखते हुए हम भी इसे सुपरफूड कह सकते हैं। अगर अभी तक आपने इसका प्रयोग नहीं किया है तो इसका प्रयोग शुरू करें और एक स्वथ्य जीवन की शुरूवात करें। और इससे होने वाले आपको फायदों के बारे में हमें जरूर बताएं।

चिया बीजों के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न —

क्या चिया बीजों का प्रयोग अलसी के विकल्प के तौर पर किया जा सकता है?
हां, अलसी के विकल्प के रूप में चिया बीज प्रयोग किया जा सकता है। क्योंकि दोनों में मौजूद पोषक तत्व लगभग एक जैसे ही होते हैं।

क्या दही के साथ चिया बीज का सेवन कर सकते हैं?

हा, आप चिया बीजों का प्रयोग दही के साथ मिलाकर कर सकते हैं।

क्या कच्चे चिया बीज का सेवन करना चाहिए?

हां, आप कच्चे चिया बीज का सेवन सकते हैं क्योंकि चिया बीज को अन्य खाद्य पदार्थो के साथ मिलाकर प्रयोग लाया जाता है।

चिया बीज की तासीर क्या है?

चिया बीज की तासीर ठंडी होती है।

क्या चिया बीज को फलियां कहा जा सकता हैं?

नहीं यह फलियां नहीं है बल्कि यह बीज हैं।

क्या चिया बीज और तुलसी के बीज एक समान होते हैं?

अगर दोनों के पोषक तत्वों की बात करें तो हां दोनों एक समान ही हैं लेकिन दोनों में एक बड़ा अंतर है जो इनको एक दूसरे से अलग करता है और वह है चिया बीज में तुलसी बीज की तुलना में ओमेगा-3 फैटी एसिड की मात्रा दो गुना पाई जाती है। इसके अलावा चिया बीजों में तुलसी बीज की तुलना में फाइबर की मात्रा भी अधिक होती है।

क्या चिया बीज का प्रयोग पैलियो डाइट में किया जा सकता है?

आप इसका प्रयोग पैलियो डायट में कर सकते हैं परन्तु यह ध्यान रखें की इसको आप उचित मात्रा में ही लें। इसके लिए आप किसी विशेषज्ञ की सलाह भी ले ​सकते हैं।

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap