Bifilac Capsule in Hindi-बिफिलेक कैप्सूल

Bifilac capsule in hindi-बिफिलेक कैप्सूल का उपयोग आंत्र सिंड्रोम, दस्त, चिड़चिड़ापन और जीवाणु संक्रमण के इलाज में प्रयोग किया जाता है।

एंटीबायोटिक्स होने के कारण बिफिलेक कैप्सूल दस्त के लिए सबसे अधिक उपयोगी होती है।

आगे के लेख में इसके बारे में विस्तार से जानेंगे कि यह दवा कहां प्रयोग की जाती है और कैसे कार्य करती है।

साथ ही देखेगें इसके अधिक प्रयोग से क्या दुष्परिणाम हो सकते हैं। तो आइऐं जानते हैं Bifilac Capsule से होने वाले फायदों व इसके प्रयोग का तरीका व इससे होने वाले नुकसान के बारे में।

Table of Contents

बिफिलेक कैप्सूल का उपयोग किन लक्षणों में करें — Bifilac Capsule Uses in hindi

चलिये देखते हैं इस दवा का प्रयोग किन—किन बिमारियों में किया जा सकता है।

  • दस्त
  • पेट में बैक्टीरियल इन्फेक्शन
  • इर्रीटेबल बाउल सिंड्रोम
  • अल्सरेटिव कोलाइटिस
  • आंत रोगों
  • छोटे बच्चों में दस्त
  • मुहांसे
  • योनि का संक्रमण
  • रोटावायरल दस्त
  • छालेयुक्त अल्सर
  • कब्ज

इसका प्रयोग अन्य बिमारियों में भी किया जा सकता है इसके लिए हमें डॉक्टर से सम्पर्क कर सकते हैं।

इस्तेमाल होने वाली तत्व —

स्ट्रेप्टोकोकस Streptococcus
रोग-कीट Bacillus
क्लोस्ट्रीडियम Clostridium
 लैक्टिक अम्ल Lactic Acid

बिफिलेक कैप्सूल के प्रकार – Types of Bifilac Capsule in Hindi

बिफिलेक कैप्सूल के कई होते है, बाजार में यह तरह—तरह में पाई जाती है और इसको खाने का तरीका भी अलग—अलग होता है। इनके दवा के निम्नलिखित प्रकार है।

  • बिफिलेक HP कैप्सूल  
  • बिफिलेक कैप्सूल
  • बिफिलेक Dry Syrup
  • बिफिलेक Sheshe

कैसे काम करता है बिफिलेक कैप्सूल — How Bifilac Capsule works in hindi

बिफिलेक कैप्सूल का प्रयोग सामन्यत: पेट से जुड़ी हुई बिमारियों के लिए किया जाता है। विशेषकर इसका प्रयोग डायरिया व दस्त के लिए किया जाता है। इस दवा में प्रोबायोटिक नामक तत्व सक्रीय रूप से उपस्थित होते हैं। जो हमारे पाचन तंत्र को मजबूत करते हैं। साथ ही हमारे भोजन का पचाने की क्षमता को भी बढ़ाते हैं।

बिफिलेक कैप्सूल के साइड इफेक्ट्स — Bifilac Capsule Side effect in hindi 

बिफिलेक कैप्सूल का प्रयोग करने से कई सारे साइड इफ़ेक्ट हो सकते हैं परन्तु ये साइड इफेक्ट्स हमें हमेशा नहीं दिखाई देते या महसूस नहीं होते क्योंकि दवाएं प्रत्येक मनुष्य में अलग-अलग प्रभाव पैदा करती है। किसी भी कारणवश आपको इस दवा को लेने के बाद नीचे लिखित साइड इफेक्ट्स महसूस हों तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें।

  • जलन
  • उल्टी
  • सिरदर्द
  • चक्कर आना
  • पेट दर्द
  • मितली
  • पेट फूलना
  • कब्ज
  • तीव्र विषाक्तता
  • अनिंद्रा की समस्या।
  • त्वचा के चकत्ते

बिफिलेक कैप्सूल की पारस्परिक क्रिया एवं प्रति​​क्रिया​ — Drug Interaction of Bifilac Capsule in hindi

अगर आप इस दवा के साथ कोई अन्य दवा का इस्तेमाल करना चाह रहे हैं तो ऐसी स्थिति में इससे होने वाले साइड इफेक्ट्स बढ़ जाएं या फिर इस दवा से होने वाला लाभ कुछ कम हो जाए।

अगर बिफिलेक कैप्सूल के इस्तेमाल से ऐसी कोई परिस्थत पैदा हो रही है तो आपको तुरंत ही अपने डॉक्टर से सलाह लें लेनी चाहिए जिससे की कोई गंभीर समस्या ना हो।

बिफिलेक कैप्सूल के इस्तेमाल में बरतने वाली सावधानियां — Bifilac Capsule Precautions in hindi

बिफिलेक कैप्सूल का प्रयोग (bifilac capsule uses) करने से पहले इनकी सावधानियों के बारे में जानकारी ले लेना  जरुरी होता है। क्योकि बिना डॉक्टर की सलाह से इस दवा का प्रयोग करना पड़ तो आप को निम्न सावधानियों को ध्यान में रखना जरूरी है।

  • यदि आप या कोई और लीवर या किडनी की बिमारी से ग्रसित हैं, तो उसे इस कैप्सूल का प्रयोग करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरुर ले लेनी चाहिए।
  • यदि आपको किसी भी चीज से एलर्जी हो जाती है ​तो आपका इस दवा का प्रयोग बिना डाक्टर की सलाह के नहीं करना चाहिए।
  • अगर आपके छोटे बच्चे हो और उन्हें आप स्तनपान कराती हैं तो आपको इस दवा का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरुर लें।
  • अगर आपको इसमें प्रयुक्त होने वाले तत्वों से एलर्जी होती है तो इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए या फिर डॉक्टर से सलाह लें।
  • प्रेगनेंसी के दौरान इस दवा का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से जरुर ​सलाह ले लें।
  • अगर आप पहले से ही किसी प्राकर का मल्टी विटामिन ले का प्रयोग कर रहे हैं तो इसक दवा का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।
  • इस दवा का प्रयोग ऐल्कोहल के साथ न करें।

अधिक मात्रा में बिफिलेक कैप्सूल का प्रयोग करने पर होने वाले लक्षण — Bifilac Capsule overdose symptoms in hindi

यदि आप कभी भी अधिक मात्रा में इस दवा का प्रयोग करते हैं, तो आपके शरीर में इस दवा से खतरनाक प्रभाव पड़ सकते हैं।

ओवरडोज या अधिक मात्रा में प्रयोग करने के लक्षणों में निम्न दुष्प्रभाव देखे जा सकते हैं जैसे — पेट में जलन का होना, उल्टी, सिर में दर्द होनाा, चक्कर आना, पेट का फूलना, पेट में कब्ज का होना, मितली होना, त्वचा में चकत्ते उभरना आदि।

यदि आपको लगता है कि आपने इसके इस्तेमाल अत्यधिक मात्रा में कर लिया है तो और आपको इससे होने वाले साइडइफैक्ट ज्यादा हो रहे हैं तो समस्या के ज्यादा गम्भीर होने से पहले आपको डॉक्टर के पास जाकर उन्हें होने वाले लक्षणों के बारे में बताना चाहिए।

बिफिलेक कैप्सूल के प्रयोग के बारे में पूछे जाने वाले अन्य सवाल — frequently asked question in hindi

1) क्या बिफिलेक कैप्सूल का प्रयोग स्तनपान के दौरान किया जा सकता हैं?

स्तनपान के समय इस दवा के प्रयोग से पहले डॉक्टर से जरुरी सलाह ले लेनी चाहिए।

2) क्या बिफिलेक कैप्सूल का प्रयोग बिना कुछ खाऐ या खाली पेट कर सकते है?

इसका प्रयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह कर लें।

3) क्या बिफिलेक कैप्सूल को महिलाओं ने प्रेगनेंसी के दौरान प्रयोग करना चाहिए?

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को इस दवा का प्रयोग बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं करना चाहिए।

4) क्या इस दवा को लगातार लेने से मुझ लत पड़ सकती है?

जी नहीं अगर आप इसका प्रयोग डॉक्टर की सलाह के अनुसार करते हैं तो आपको इसकी लत नहीं पड़ेगी।

5) क्या बिफिलेक कैप्सूल लेते हुए धूम्रपान कर सकते है?

नहीं इस कैप्सूल को लेने के दौरान धूम्रपान नहीं करना चाहिए।

उपरोक्त दिये गये लक्षणों में से कुछ के बारे में हम विस्तार से जानेंगे —

दस्त में बिफिलेक कैप्सूल

अगर आपको अक्सर दस्त की समस्या रहती है तेा आपको इस दवा का प्रयोग करना चाहिए। यह दवा दस्त के लिए एक कारगर दवा है।

छोटे बच्चों में दस्त

इस दवा का प्रयोग विशेषकर छोटे बच्चों में दस्त, आंत्र सिंड्रोम और पेट में होने वाले जीवाणुओं के संक्रमण के इलाज के लिए किया जाता है। बाजार या आनलाइन छोटे बच्चों के लिए यह दवा एक सिरप के रूप में मिलती है।

पेट में बैक्टीरियल इन्फेक्शन

इस दवा का उपयोग पेट में उपस्थित बैक्टीरिया के कारण पैदा होने वाले दस्त के लिए किया जाता है। इतना नहीं नहीं इसका प्रयोग एंटीबायोटिक दवा के प्रयोग के कारण होने वाले दस्त में भी इस दवा का प्रयोग करते हैं। लेकिन डॉक्टर की सलाह के ​बगैर इस दवा का प्रयोग न करें।

छालेयुक्त अल्सर में बिफिलेक कैप्सूल

अगर आपको पेट या मुंह में छोलेदार अल्सर की परेशानी रहती है तो इसके लिए आप बिफिलेक कैप्सूल का प्रयेाग कर सकते हैं। बिफिलेक कैप्सूल में  प्रोबायोटिक के तत्व होते हैं जिससे पाचन तंत्र को मजबूत किया जा सकता कहै। जिससे हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है। और हमारे पेट और मुंह में होने वाल अल्सर युक्त छालों से मुक्ति मिलती है।

मुहांसों में बिफिलेक कैप्सूल

मुहांसों के होने का एक कारण पेट का सही से साफ न होना या हमारे पेट व शरीर में गन्दगी का रह जाना है। इससे बचाव के लिए हमें बिफिलेक कैप्सूल का प्रयोग करना चाहिए क्योंकि इसके प्रयोग से हमारी पाचन शक्ति बढ़ जाती है और  हमारा पेट भी साफ व स्वस्थ्य रहता है।

कब्ज में बिफिलेक कैप्सूल

आज कल गलत रहन—सहन व खान—पान के कारण अक्सर कब्ज की समस्या हो जाती है। कब्ज के कारण हमें कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसके इलाज के लिए सबसे सरल उपाय बिफिलेक कैप्सूल का प्रयोग करना है। इस दवा के प्रयोग से हमारी कब्ज की समस्या समाप्त हो जाती है।

बिफिलेक कैप्सूल की खुराक — Bifilac Capsule Dose in Hindi

आप बिफिलैक कैप्सूल को भोजन करने पहले या बाद को ले सकते हैं। यदि आपका पेट खराब है तो आपको इसको भोजन के बाद लेना चाहिए अर्थात आप इसको खाली पेट न लें। अगर आपको कैप्सूल को लेने में परेशानी होती है तो आप इसको कुचल कर इसके पाउडर को सीधे अपने भोजन में मिलाकर भी खा सकते हैं। जैसे किसी भी दवा के प्रयोग से पहले डॉॅक्टर से सलाह लेनी आवश्यक होती है उसी प्रकार आपको Bifilac Capsule के प्रयोग से पहले डॉक्टर से सलाह अवश्य लेनी चाहिए।

Bifilac आपको बाजार में आसानी से टेबलेट, सिरप या फिर कैप्सूल के रूप में मिल जाती है। यह दवा आंत के लिए अच्छी मानी जाती है क्योंकि यह अच्छे बैक्टरिया को आंत में पनपने में मदद करती है।

आप बिफिलेक कैप्सूल की एक कैप्सूल को प्रयोग प्रतिदिन कर सकते हैं। या फिर आप डॉक्टर द्वारा बताये गये निर्देश के अनुसार इसकी खुराक ले सकते हैं। कभी भी दवा का अधिक मात्रा में सेवन न करें जितनी मात्रा डॉक्टर द्वारा बताई गई है उतनी ही मात्रा में इस दवा का सेवन करें।

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap