योग से होने वाले लाभ – Benefits of Yoga in Hindi

Benefits of Yoga in Hindiयोग से होने वाले लाभ के बारे में बात करने से पहले हमें यह जान लेना जरूरी है कि योग क्या है। योग जीने का विज्ञान है अर्थात हमें कैसे जीना चाहिए यह योग हमें सिखाता है।

इसके लिए हमें योग को दैनिक जीवन में उपयोग में लाना होगा। इसका संस्कृत में अर्थ है युज अर्थात जुड़ना अर्थात योग के द्वारा अपनी चेतना से जुड़ाव महसूस करना।

सरल भाषा में कहें तो योग हमारे शरीर, मन और हमारी भावनाओं में संतुलन बनाने का काम करता है।

अगर आप मानसिक और शारीरिक रूप से तन्दुरूस्त हैं तो तो यह मानकर चलिए की आपका जीवन सुखमयी है। परन्तु वर्तमान समय में हर एक को कोई न कोई परेशानी लगी रहती है।

कोई मानसिक तो कोई शारीरिक रूप से बिमार है। इस तरह के जीवन से निजात पाने का एक आसान सा तरीका है वह है योग।

योग सबसे पहले हमारे बाहरी शरीर को लाभ पहुंचाता है। इसका सीधा सम्बन्ध हमारे अंगों, मांसपेशियों, नसों से है। योग द्वारा इनमें सही तालमेल होता है।

इसके पश्चात योग हमारी मानसिक व भावनात्मक क्रियाओं पर कार्य करता है।

वर्तमान समय में रोज की दौड़भाग भरे जीवन में हम तनाव व अन्य मानसिक परेशानियों से ग्रसित हो जाते हैं।

योग इसको ठीक तो नहीं कर सकता है पर इससे लड़ने की शक्ति अवश्य प्रदान करता है।

Benefits of Yoga in Hindi
Benefits of Yoga in Hindi

Here are some Benefits of Yoga in Hindi योग के लाभ

शारीरिक और मानसिक तौर पर योग हमको मजबूत बनाने का कार्य करता है। यह इसलिए इतना उपयोगी है क्योंकि यह एकीकरण से सिद्धान्तों पर कार्य करता है।

योग द्वारा अस्थमा, रक्तचाप, अपाचन, मधुमेह, गठिया जैसे कई बीमारियों के इलाज में सहायता प्राप्त होती है। आधुनिक विज्ञान जहां फेल हो जाता है वहां योग अपना असर दिखाता है।

कई बिमारियों में योग ने चमत्कार करके दिखाऐ हैं। कई जानलेवा बिमारियों में योग लाभदायक रहा है।इसमें कई प्रयोग भी चल रहे है।

डॉक्टरों के अनुसार योग चिकित्सा रोग को नहीं बल्कि उससे लड़ने के लिए हमारे शरीर को तैयार करता है। जिससे प्रभावित अंग में इसका सीधा प्रभाव पड़ता है।

अधिकतर लोग योग को केवल तनाव दूर करने वाली क्रिया के तौर पर देखते हैं। योग कई प्रकार की बुरी आदतो से होने वाले नुकसान को कम करता है।

जैसे पूरे दिन बैठे—बैठे कार्य करना, मोबाइल का ज्यादा प्रयोग करना, व्यायाम न करना, खाने की गलत आदतों का होना आदि।

इतना ही नहीं योग के आध्यात्मिक लाभ भी हैं जिनका विस्तारपूर्वक वर्णन करना सरल नहीं होगा। क्योंकि इसका अनुभव स्वयं हमें योग का अभ्यास कर ही प्राप्त हो सकता है।

हर व्यक्ति में योग का अलग—अलग लाभ होता है। प्रत्येक व्यक्ति को मानसिक, भौतिक, आध्यात्मिक लाभ के लिए योग को अपनाना चाहिए।

योगा के कुछ लाभों के बारे में हम विस्तार से आपको बताने जा रहे हैं —

रक्त प्रवाह में योग के लाभ :

शरीर में रक्त के बेहतर संचार के कारण प्रत्येक अंग सही तरह से काम करता है।

जिससे हमारा हमारा स्वास्थ्य सही रहता है और हमारा तापमान भी नियंत्रण में रहता है।

अगर रक्त प्रवाह असंतुलित हो जाये तो शरीर में कई प्रकार की बिमारियां होने का खतरा रहता है।

जैसे— दिमागी परेशानी, हृदय से सम्बन्धित रोग, लीवर से जुड़े रोग आदि।

ऐसी स्थिति से बचने के लिए हमें नियमि रूप से योग का सहारा लेना चाहिए जिससे हमारा रक्त संचरण सही रहे और हम स्वस्थ्य रहे।

श्वसन तंत्र में योग के लाभ

श्वसन तंत्र में अगर कोई परेशानी या रोग लग जाये तो यह हमारे शरीर के लिए खतरनाक हो सकता है। क्योंकि बिना श्वास के हम जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते।

ऐसी स्थिति से बचने के लिए योग एक मात्र सहारा है।

क्योंकि किसी भी प्रकार का योग क्यों न हो सभी में सांसों का ही महत्व होता है।

योग करने पर हमारे फेफड़े पूरी क्षमता से कार्य करते हैं और प्राण वायु का प्रवाह बढ़ता है।

अपच व कब्ज में योग के फायदे

आजकल बुढ़ों के साथ ही जवान हो या बच्चे सभी में अपच और कब्ज की समस्या पायी जाती है।

यह समस्या मुख्य रूप से पाचन तंत्र के कारण होती है। अगर आपका पाचन तंत्र कमजोर है और खाना नहीं पचा पा रहा है तो आपको कब्ज व गैस की समस्या होने का खतरा बढ़ जाता है।

ऐसी स्थिति में सबसे सही उपाय है नियमित रूप से योग करना। योग के द्वारा आपच, कब्ज, गैस व एसिडिटी जैसी समस्याओं से छुटकारा मिल जाता है और शरीर भी स्वस्थ्य रहता है।

प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में योग के फायदे

छोटी मोटी बिमारी से लड़ने के लिए हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होनी चाहिए।

अगर हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता सही नहीं है तो आये दिन हमें कोई न कोई बिमारी लगते रहेगी।

अत: इस स्थिति से बचने के लिए हमें नियमित रूप से योग करना चाहिए। योग के कारण हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है।

ह्रदय रोग से बचाव में योग के लाभ

गलत खानपान एंव गलत रहन—सहन के कारण अक्सर हम हृदय से सम्बन्धित बिमारियों के शिकार हो जाते हैं।

जिसका सीधा असर हमारे स्वास्थ्य पर पड़ता है क्योंकि हृदय हमारे शरीर का एक अहम हिस्सा है।

इससे बचाव के लिए हमें अपने हृदय को मजबूत और स्वस्थ्य रखना जरूरीर है और हम इसके लिए योग को अपना सकते हैं।

दैनिक जीवन में नियमित योग करने से हमारा ह्रदय मजबूत होने के साथ ही स्वस्थ्य होता है।

कैंसर में योग के लाभ

अभी तक यह साबित नहीं हुआ है कि योग से कैंसर ठीक होता हैं परन्तु इतना जरूर है कि योग करने से हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है​ जिस कारण से हमारे शरीर में पैदा होने वाली कैंसर की कोशिकाओं को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

योग को नियमित रूप से करने से मांसपेशियां मजबूत होती हैं और रक्त का संचार बेहतर होने लगता है और हमें थकान भी कम लगती है। योग को नियमित करने से कैंसर के इलाज में मदद मिलती है।

वजन कम करने में योग के फायदे

आजकल की दौड़भरे जीवन में हर कोई किसी न किसी परेशानी से परेशान है उनमें से एक है वजन बढ़ना अर्थात मोटा होना।

इसका मुख्य कारण है अनियंत्रित खानपान व बिगड़ता पाचन तंत्र।

इससे बचने का एक सरल उपाय है रोज नियमित योग को करना। योग करने से पेट से सम्बन्धित कई प्रकार की परेशानियां ठीक हो जती हैं उनमें से एक है वजन का बढ़ना।

अत: अगर आपको अपना वजन नियंत्रित करना है तो आपको योग का सहारा लेना चाहिए।

यह एक जल्दी होने वाली प्रक्रिया तो नहीं है परन्तु योग को करने से धीरे—धीरे वजन कम होने लगता है।

तनाव कम करने में योग के फायदे

अगर आप अक्सर तनाव ग्रस्त रहते हैं तो आपके लिए सबसे सही है योग करना।

इसको करने से आपका मन शांत व एकाग्र रहता है और तनाव कम होता है। ऐसा होने से हमारे जीवन में एक नई उर्जा भर जाती है।

योग के प्रकार – Types of Yoga in Hindi

प्रमुख रूप से योग के 4 प्रकार हैं:

  • राज योग
  • कर्म योग
  • भक्ति योग
  • ज्ञान योग

योग करने के नियम – Rules of Yoga in Hindi

अगर कुछ नियमों का पालन करेंगे, तो अवश्य योग द्वारा लाभ होगा :

  • योग का अभ्यास किसी गुरु के निर्देशन में शुरू करें।
  • सूर्योदय या सूर्यास्त का समय ही योग के लिए सही है।
  • योग खाली पेट करें अर्थात योग करने से 2 घंटे पहले कुछ भी न खायें।
  • योग करते समय आरामदायक सूती कपड़े पहनें।
  • किसी शांत वातावरण और हवादार जगह में योग करें।
  • योग करते समय अपना पूरा ध्यान अभ्यास पर ही रखें।
  • अपने शरीर के साथ ज़बरदस्ती ना करें।
  • योग से लाभ होने में समय लग सकता है इसलिए धैर्य बनाये रखें।
  • रोजाना योग अभ्यास जारी रखें।
  • योग करने के 30 मिनिट बाद तक कुछ ना खायें व 1 घंटे तक न स्नान न करें।
  • गर कोई तकलीफ़ हो तो पहले अपने डॉक्टर से सलाह करें।
  • योगाभ्यास के अंत में हमेशा शवासन करें।

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap