वजन कम करने के आयुर्वेदिक उपाय — Ayurvedic weight loss tips In Hindi

Ayurvedic weight loss tips In Hindi-वजन कम करने के आयुर्वेदिक उपाय सिर्फ उस व्यक्ति के लिए ही नहीं है, जिसका वजन बढ़ा हो बल्कि सभी के लिए आवश्यक है ।

पर आज पूरी दुनिया मोटापे की बिमारी से ग्रसित है। हमारे खान—पान, स्वाद की लालसा और सुस्त रहने की आदत हमें मोटापे की बिमारी की ओर कदम दर कदम बढ़ाती जा रही है।

यह बिमारी महामारी की तरह फैल रही है। हर कोई अपने बढ़ते वजन से परेशान है और इसे जल्दी से जल्दी घटना चाहता है।

आए दिन नए—नए लेख आनलाईन आ रहे है जिसमें 5 या 7 दिन में मोटापा कम करने की बात कही जाती है।

मगर यह सच नहीं है।

आप मोटापे को इतने समय में कम नहीं कर सकते है यह एक लम्बी प्रोसेस है।

इसके लिए आप एलोपैथिक की जगह आयुर्वेदिक या घरेलू उपाय अपना सकते हैं और साथ ही व्यायाम का भी प्रयोग कर सकते हैं।

हम यहां घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक उपायों की बात करेंगे।

लोगों के मन में यह सवाल उठता है कि क्या आयुर्वेद से वजन कम किया जा सकता है।

तो नि:संदेह आयुर्वेद से वजन कम किया जा सकता है।

क्योंकि आयुर्वेद रोग के मूल कारण को पहचान कर उसको खत्म करता है।

आयुर्वेद से वजन घटाने के उपाय –
Ayurvedic weight loss tips In Hindi

आयुर्वेद में वजन कम करने के लिए बहुत सी दवाईयां उपलब्ध है जिनका प्रयोग किया जा सकता है।

मगर यह समझना जरूरी है कि आयुर्वेदिक दवाईयों या उसके ईलाज से तुरन्त लाभ नहीं होता है।

बल्कि यह उस समस्या को धीरे—धीरे समाप्त करता हैं इसके उपचार में हमें संयम बनाए रखना होता है।

परन्तु एलोपैथिक या अंग्रेजी दवाईयों की तरह इससे हमें कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है।

Ayurvedic Tips for weight loss Lemon water in Hindi

आयुर्वेदिक टिप्स फॉर वेट लॉस लेमन वाटर – Ayurvedic Tips for weight loss Lemon water in Hindi

आयुर्वेद में नींबू पानी की काफी चर्चा होती है।

इसका उपयोग काफी रोगों में होता है। उसी तरह इसका प्रयोग वजन घटाने के लिए भी होता है।

गर्म पानी के साथ नीबू के रस को मिलाकर सुबह पिया जाय तो यह सिर्फ पाचन तंत्र के लिए ही फायदेमंद नहीं होता यह हमारी चर्बी को भी घटाने में मदद करता है।

शरीर को डिटॉक्सिफाइंग करने के लिए नींबू पानी का उपयोग कर सकते हैं।

वजन कम करने के लिए जल्दी सोएं और जल्दी उठें – Early To Bed And Early To Rise

हमारी बिगड़ती दिनचर्या ही सबसे बढ़ी समस्या है वजन बढ़ने की क्योंकि हमारे सोने और उठने का समय ही निर्धारित नहीं होता।

इसलिए हमें समय से सो जाना चाहिए इसका सही समय 10 बजे से 11 बजे तक का है।

जिनता हो सके इस समय सो जाना चाहिए और सुबह 5 से 6 बजे तक उठ जाना चाहिए।

क्योंकि हमारा शरीर प्राकृतिक रूप से इसी समय का चयन करता है।

इस दिनचर्या को अपने जीवन में उतार कर हम मोटापा ही नहीं और अन्य बिमारियों से भी मुक्ति पा सकते हैं।

Three meals a day

दिन में तीन बार भोजन करें –Three meals a day


हमें वजन को नियंत्रित करने के लिए दिन में तीन बार भोजन करना चाहिए। इसके लिए सुबह का नाश्ता, दिन का खाना और रात्रि भोजन शामिल है।

सुबह का नाश्ता हल्का और पौष्टिक होना आवश्यक है। जिससे दिन तक हमें कार्य करने की उर्जा मिल सके।

दिन का भोजन थोड़ा भारी हो सकता है जिससे हमें अपनी कार्य करने की क्षमता को बनाए रखने के लिए इसकी आवश्यकता होती है।

रात्रि का भोजन हल्का होना चाहिए क्योंकि उसके पश्चात शरीर को आराम करना होता है।

तीन बार भोजन करने से हमारे शरीर में शर्करा की मात्रा नियंत्रित रहती है। जिससे मोटापा नहीं बढ़ता है।

नियमित व्यायाम करें – Regular Exercise for Weight loss in Hindi

अगर हमें फिट और स्वस्थ रहना है तो हमें रोजाना नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए क्योंकि व्यायाम करने से पसीना आता है और आयुर्वेद के अनुसार पसीने के साथ ही हमारी अतिरिक्त चर्बी बाहर निकलती है।

अत: रोजना हमें 30 से 45 मिनट तक व्यायाम अवश्य करना चाहिए। व्यायाम के साथ ही हमें संतुलित भोजन का भी प्रयोग करना चाहिए।

वजन कम करने के टिप्स खूब पानी पीए – Drink more Water for Weight loss in Hindi

अगर हम आयुर्वेद के अनुसार अपना वजन कम करना चाहते हैं तो हमें खूब पानी पीना चाहिए। मगर इसका भी समय होता है खाने के तुरन्त बाद व तुरन्त पहले पानी का सेवन नहीं करना चाहिए।

अगर ऐसा करते हैं तो हमारी पाचन शक्ति कमजोर हो जाती है और खाना पचाने में परेशानी होती है।

पानी पीना स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होता है जितना हो सकते हमें पानी का सेवन करना चाहिए इससे वजन ही नहीं अन्य तरह की बिमारियों भी कम होती है।

जैतून के तेल का प्रयोग Olive Oil for Weight Loss

हम वजन कम करने के लिए जैतून के तेल का प्रयोग भी कर सकते है।

अन्य तेल की जगह भोजन बनाने के लिए हमें जैतून का तेल प्रयोग करना चाहिए। इसमें फेनोलिक एंटी ऑक्सिडेंट ज्यादा मात्रा में होता है।

इसलिए ये हेल्दी होता है और इसमें सैचुरेटेड फैट भी नहीं होता है। अपने पसंदीदा खाने में कुछ मात्रा में जैतून के तेल का प्रयोग करें ।

जिससे वजन कम तो होगा ही साथ ही खाने का स्वाद भी बढ़ेगा। अगर आपका वजन बढ़ रहा है तो आप व्यायाम के साथ-साथ जैतून के तेल का भी प्रयोग कर सकते हैं।

शहद और नींबू का प्रयोग

मोटापा कम करने के लिए आप शहद और नींबू का प्रयोग कर सकते हैं।

इन दोनों का प्रयोग वजन घटाने व शरीर की विभिन्न परेशानियों को कम करने के लिए किया जाता रहा है। नींबू एक सिट्रस अर्थात खट्टा फल है, जिसमें प्रचूर मात्रा में विटामिन-सी पाया जाता है।

नींबू के रस में शरीर से अतिरिक्त जमा चर्बी को हटाने का गुण होता है। वहीं दूरी ओर शहद प्राकृतिक रूप से मिठास होता है, जो बिना कोलेस्ट्रॉल बढ़ाए बढ़े हुए वजन को कम करने में सहायक है।

वजन को कम करने के लिए एक गिलास गुनगुन पानी में एक या आधा नींबू के रस को शहद के साथ मिलाकर इसका सेवन करे

सौंफ का प्रयोग

बढ़े हुए अतिरिक्त वजन को कम करने के लिए आप सौंफ का इस्तेमाल कर सकते हैं।

सौंफ में प्रचूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। जो भूख को नियंत्रित करता है और वजन घटाने में सहायता करता है।

इसके अतिरिक्त सौंफ में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाये जाते हैं जो शरीर को फ्री रेडिकल्स से दूर रखता है।

वजन घटाने के लिए सौंफ की दो चम्मच मात्रा को एक गिलास पानी के साथ रात भर के लिए छोड़ देना चाहिए और सुबह उठकर सीधे खाली पेट इसका सेवन करना चाहिए।

वजन कम करने के लिए उपवास रखें

आयुर्वेद विज्ञान के अनुसार पाचन तंत्र सही प्रकार से काम करता रहे इसके लिए इसे आराम भी देना जरूरी हो जाता है।

परन्तु पाचन तंत्र बिना कुछ खाये भी कार्य करता रहा है। परन्तु डॉक्टरों का मानना है कि पाचन तंत्र को सही रखने के लिए कम से कम सप्ताह में एक दिन उपवास अर्थात खाली पेट रहना चाहिए।

ऐसा करना आंतों के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। ऐसा करने से हमारा पाचन तंत्र अधिक उर्जा से कार्य करने लगता है।

परन्तु ध्यान रहें की उपवास के दिन आप तरल पदार्थ जैसे जूस, सूप आदि का सेवन करें जिससे आपको उर्जा मिलती रहे।

वजन कम करने के लिए आयुर्वेदिक दवायें

आयुर्वेद में बढ़ते वजन व मोटापे को कम करने के लिए बहुत सी दवायें हैं। जिनका उपयोग मोटापे को आसानी से दूर करने के लिए किया जा सकता है। यह दवाये आसानी से दवा की दुकान में मिल जाती है। जैसे— आरोग्यवर्धिनी वटी, शिवलिंगी बीज आदि।

Leave a Comment

close
Copy link
Powered by Social Snap